loader

शाह को ममता का जवाब, कहा- बंगाल की छवि न बिगाड़ें

विधानसभा चुनाव से पहले ममता सरकार पर हमला बोल रहे केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के आरोपों को लेकर राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को पलटवार किया है। ममता ने प्रेस कॉन्फ्रेन्स में कहा कि अमित शाह जानबूझकर पश्चिम बंगाल की ख़राब छवि पेश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल विकास के सूचकांकों में दूसरे राज्यों से आगे है। 

हाल ही में बीजेपी के अध्यक्ष जेपी नड्डा के काफिले पर हुए हमले के बाद बीजेपी ने ममता सरकार पर हमले तेज़ किए हैं। बीजेपी का कहना है कि राज्य में लोकतंत्र पूरी तरह ख़त्म हो गया है और ममता सरकार में बीजेपी के कार्यकर्ताओं की लगातार हत्या हो रही है। बीजेपी ने अपने कार्यकर्ताओं की हत्या को लेकर राज्य में जबरदस्त आंदोलन छेड़ा हुआ है।

ताज़ा ख़बरें

ममता ने राजनीतिक हत्याओं पर बीजेपी को जवाब देते हुए कहा उनके शासनकाल में राज्य में राजनीतिक हत्याएं कम हुई हैं। उन्होंने कहा कि कोई आत्महत्या भी होती है तो बीजेपी उसे जानबूझकर राजनीतिक हत्या के रंग में रंग देती है और यहां तक कि पति-पत्नी के झगड़े को भी राजनीतिक रंग दे दिया जाता है। 

ममता ने तमाम आंकड़ों को गिनाते हुए कहा कि कृषि क्षेत्र में भारत की विकास दर 4.05 जबकि बंगाल में यह 4.74 फीसदी है। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘बंगाल ग़रीबी हटाने में नंबर एक है और यहां पिछले 10 साल से दंगे नहीं हुए हैं। हमने बंगाल में 1 करोड़ से ज़्यादा नौकरियां दी हैं।’

‘सुरक्षित है बंगाल’

ममता ने कहा कि बंगाल को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को तथ्यों के आधार पर बात रखनी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘राज्य में नक्सली घटनाओं में कमी आई है और बड़ी संख्या में माओवादियों ने सरेंडर किया है। अंफन के दौरान राज्य सरकार ने दो लाख से ज़्यादा लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया है। केंद्र सरकार सिर्फ़ राज्य की बुराई करती है। कोलकाता और बंगाल दूसरे राज्यों से ज़्यादा सुरक्षित है।’

मुख्यमंत्री ने कहा कि टीएमसी की सरकार ने 14 से ज़्यादा मेडिकल कॉलेज बनाए हैं, 79 पैरामेडिकल कॉलेज बनाए हैं, अस्पतालों में मां-बच्चों के लिए सुविधाएं बढ़ाई गई हैं लेकिन केंद्र सरकार के मंत्री इस बारे में नहीं बताते। टीएमसी प्रमुख ने कहा कि राज्य में क़ानून व्यवस्था की स्थिति पहले से बेहतर है।

BJP TMC war in west bengal - Satya Hindi

कई नेताओं ने छोड़ी टीएमसी

ममता इन दिनों अपनी पार्टी में हो रही बग़ावत से परेशान हैं। कुछ ही दिन पहले पूर्व कैबिनेट मंत्री शुभेंदु अधिकारी सहित पार्टी के कई विधायकों ने अमित शाह की मौजूदगी में बीजेपी का दामन थाम लिया। शुभेंदु के अलावा शीलभद्र दत्ता, बनश्री मैती, बिस्वजीत कुंडू, सैकत पंजा, दीपाली बिस्वास और शुक्रा मुंडा टीएमसी को अलविदा कहकर बीजेपी में शामिल हुए थे। 

बीजेपी अगले साल अप्रैल-मई में होने जा रहे विधानसभा चुनाव को लेकर जोरदार चुनावी माहौल बनाने में जुटी हुई है। 294 सीटों वाली बंगाल विधानसभा में पार्टी ने 200 से ज़्यादा सीटें जीतने का लक्ष्य रखा है।

राज्यपाल ने बोला था हमला 

बीजेपी-टीएमसी की इस लड़ाई के बीच कुछ दिन पहले राज्यपाल जगदीप धनखड़ भी सामने आए थे और उन्होंने कहा था कि ममता बनर्जी संवैधानिक बाध्यता के अधीन हैं और उन्हें संविधान के रास्ते पर चलना ही होगा। धनखड़ ने कहा था कि राज्य में क़ानून व्यवस्था की स्थिति बेहद ख़राब हो चुकी है और वे कई बार मुख्यमंत्री, प्रशासन और पुलिस के सामने इसे लेकर चिंता व्यक्त कर चुके हैं। नड्डा के काफ़िले पर हमले को लेकर उन्होंने कहा था कि यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण घटना थी और इसने दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र को शर्मसार किया है। 

पश्चिम बंगाल के चुनावी हालात पर देखिए चर्चा-  

सरकार बनाने का लक्ष्य

बीजेपी किसी भी सूरत में बंगाल में अपनी सरकार बनाना चाहती है और पार्टी वहां किसी भी तरह अपना परचम लहराना चाहती है। बंगाल में सरकार बनाने के लिए आरएसएस भी लगातार सक्रिय है। हाल ही में बीजेपी ने कई नेताओं को वहां प्रभारी बनाकर भेजा है। राज्य में बीजेपी और टीएमसी के कार्यकर्ताओं के बीच खूनी झड़पें होना आम बात है, जिसमें दोनों ओर के कार्यकर्ताओं को अपनी जान गंवानी पड़ी है। विधानसभा से लेकर पंचायत और लोकसभा चुनाव तक दोनों दलों के कार्यकर्ता बुरी तरह भिड़ते रहे हैं। ऐसे में विधानसभा चुनाव में दोनों दलों के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिलेगी, यह तय है। 

पश्चिम बंगाल से और ख़बरें

ममता की भी तैयारी पूरी 

पश्चिम बंगाल की हुक़ूमत में आने के लिए बेताब बीजेपी से लड़ने के लिए ममता बनर्जी को भी विपक्षी नेताओं के साथ की सख़्त ज़रूरत है। ऐसे में ममता बनर्जी विपक्ष के नेताओं को साथ लेकर बंगाल में बड़ी रैली करने की तैयारी कर रही हैं। 

कोलकाता में होगी रैली

अब इस बात की चर्चा है कि ममता बनर्जी अगले महीने कोलकाता में विपक्षी नेताओं की एक रैली का आयोजन करने जा रही हैं और इसमें वह केजरीवाल, शरद पवार, डीएमके प्रमुख स्टालिन को बुला रही हैं। बनर्जी ने रविवार को पवार को फ़ोन किया और उनसे इस रैली में आने का आग्रह किया। इस दौरान केंद्र की ओर से राज्य सरकार के काम में दिए जा रहे कथित दख़ल और कृषि क़ानूनों के विरोध में एकजुट होने को लेकर भी बात हुई है। बताया जाता है कि पवार ने इसके लिए अपनी रजामंदी दे दी है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

पश्चिम बंगाल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें