loader

दक्षिण अफ्रीका से पहले ही 20 देशों में फैल चुका था ओमिक्रॉन

कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन को जितना ख़तरनाक समझा जा रहा है, यह उससे अधिक भयावह है। यह आशंका से बहुत अधिक लोगों को अब तक संक्रमित कर चुका होगा, इससे इनकार नहीं किया जा सकता है।

यह बात इससे साफ होती है कि दक्षिण अफ्रीका में वैज्ञानिकों व डॉक्टरों ने इसका पता लगाया, उसके पहले ही यह कम से कम 20 देशों में फैल चुका था। जाहिर है, इसने बड़ी तादाद में लोगों को प्रभावित किया होगा और वह अभी भी अनजान जगहों पर और अनजान लोगों के बीच फैल रहा होगा। 

'द न्यूयॉर्क टाइम्स' के अनुसार, नीदरलैंड के नेशनल इंस्टीच्यूट फॉर पब्लिक हेल्थ एंड एनवायरनमेंट ने कहा है कि 19 और 23 नवंबर को जो नमूने लिए गए थे, उनमें ओमिक्रॉन वायरस पाए गए हैं।

यह दक्षिण अफ्रीका के पहले की बात है क्योंकि वहाँ 24 नवंबर को इस वायरस का पता चला।
यानी दक्षिण अफ्रीका में पाए जाने के पहले उससे हज़ारों किलोमीटर दूर के इलाक़े में ओमिक्रॉन वायरस मौजूद था।

कितने देशों में ओमिक्रॉन?

कुछ दिन पहले तक यह माना जा रहा था कि ओमिक्रॉन का संक्रमण अब तक कम से कम 13 देशों में फैल चुका है।

लेकिन ऐसे देशों की तादाद इससे ज़्यादा है, जहाँ ओमिक्रॉन पहुँच चुका है।

स्कॉटलैंड और पुर्तगाल में भी इस वैरिएंट के मामलों की पहचान की गई है। इंग्लैंड, इटली, जर्मनी, इज़राइल और मोरक्को जैसे देशों के बाद जापान ने भी सभी विदेशी यात्रियों पर प्रतिबंध लगा दिया है।

सदस्य देशों को तकनीकी ब्रीफिंग नोट में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अधिकारियों से निगरानी, ​​टेस्टिंग और टीकाकरण को तेज़ करने का आग्रह किया है।

ख़ास ख़बरें

रफ़्तार तेज़!

यह अनुमान से अधिक तेज़ी से फैल रहा है, यह भी साफ है। इसे इससे समझा जा सकता है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि वे तमाम लोग जिनकी उम्र 60 साल से अधिक है और जिनमें पहले से कोई रोग है, उन्हें अपनी यात्रा टाल देनी चाहिए। 

इसके साथ ही ग्रीस के प्रधानमंत्री ने कहा है कि 60 साल से अधिक उम्र के हर व्यक्ति को कोरोना टीका लगवाना है, यह अनिवार्य है और जो लोग 16 जनवरी तक कोरोना टीका नहीं लगवा लेंगे, उन पर जुर्माना लगा दिया जाएगा।

जिस दक्षिण अफ्रीका में ओमिक्रॉन वायरस पाया गया, वहां भी यह तेज़ी से फैल रहा है। दक्षिण अफ्रीका के स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि पहले जहां रोजाना 300 नए लोग कोरोना से संक्रमित हो रहे थे, अब यह तादाद 3000 के पार हो गई है। 

omicron virus spread in 20 countries before south africa - Satya Hindi

दक्षिण अफ्रीका से नीदरलैंड गए मुसाफ़िरों में से 61 को कोरोना पॉज़िटिव पाया गया था, उनमें से 14 में ओमिक्रॉन वैरिएंट पाया गया था। 

वैज्ञानिकों का कहना है कि ओमिक्रॉन वैरिएंट अधिक ख़तरनाक इसलिए भी है कि अब तक यह नहीं पता चल सका है कि इसे कोरोना के टीकों से रोका जा सकता है या नहीं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें