loader

डेल्टा से भी ज़्यादा संक्रामक हो सकता है ओमिक्रॉन: दक्षिण अफ्रीकी विशेषज्ञ

जहाँ कोरोना का इलाज करने वाले दक्षिण अफ्रीका के डॉक्टरों ने ही शुरुआती आकलन में कहा है कि ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित लोगों में हल्के लक्षण दिख रहे हैं वहीं अब दक्षिण अफ्रीका के सरकारी विशेषज्ञ ने संभावित बड़े ख़तरे को लेकर चेताया है। दक्षिण अफ्रीका के नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर कम्युनिकेबल डिजीज यानी एनआईसीडी निदेशक ने कहा है कि दक्षिण अफ्रीका में पाया गया ओमिक्रॉन डेल्टा वैरिएंट से भी ज़्यादा संक्रामक हो सकता है।

रायटर्स से साक्षात्कार में एनआईसीडी के कार्यकारी एग्जक्यूटिव डाइरेक्टर एड्रियन प्योरन ने कहा, 'हमने सोचा था कि डेल्टा को क्या मात देगा? यह हमेशा से सवाल रहा है, कम से कम तेजी से फैलने के संदर्भ में, ...शायद यह विशेष वैरिएंट है।'

ताज़ा ख़बरें

उन्होंने कहा कि यदि डेल्टा वैरिएंट की तुलना में ओमिक्रॉन आसानी से फैलता है तो इससे संक्रमणों में तेज़ वृद्धि हो सकती है जो अस्पतालों पर दबाव डाल सकती है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ ने दो दिन पहले ही कहा है कि शुरुआती साक्ष्य से पता चलता है कि जिन लोगों को पहले कोरोना संक्रमण हो चुका है उनको 'ओमिक्रॉन' के फिर से संक्रमण का ख़तरा बढ़ सकता है। ऐसे लोग अधिक आसानी से दोबारा संक्रमित हो सकते हैं।

ओमिक्रॉन का पता चलने के बाद से ही विश्व भर में चिंताएँ बढ़ गई हैं। कई देशों ने डर से दक्षिण अफ्रीका की उड़ानों पर पाबंदी लगा दी है। डर यह भी है कि यह टीकाकरण वाली आबादी में भी तेजी से फैल सकता है और विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि इसमें संक्रमण बढ़ने का ज़्यादा ख़तरा है।

दक्षिण अफ्रीका के विशेषज्ञ प्योरन ने कहा है कि वैज्ञानिकों को चार सप्ताह के भीतर पता लगना चाहिए कि ओमिक्रॉन टीकों या पहले के संक्रमण से शरीर में बनी एंटीबॉडी से किस हद तक बच निकल सकता है।

कोरोना की मौजूदा वैक्सीन के ओमिक्रॉन पर निष्प्रभावी होने की आशंका वैक्सीन बनाने वाली एक कंपनी ने भी जाहिर की है। मॉडर्ना के सीईओ स्टीफ़न बांसेल ने कहा है कि मौजूदा वक़्त में दी जा रहीं तमाम वैक्सीन ओमिक्रॉन वैरिएंट पर उतनी कारगर साबित नहीं होंगी जितनी यह बाक़ी वैरिएंट के लिए हुई हैं। स्टीफ़न बांसेल ने फ़ाइनेंशियल टाइम्स से बातचीत में कहा कि ओमिक्रॉन के लिए नई डोज बनाने में कंपनियों को कई महीने लगेंगे। दुनिया भर के कई देशों में वैज्ञानिक ओमिक्रॉन वैरिएंट को लेकर शोध कर रहे हैं। 

दुनिया से और ख़बरें
दक्षिण अफ्रीका के नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर कम्युनिकेबल डिजीज यानी एनआईसीडी निदेशक की यह ताज़ा चेतावनी तब आई है जब कुछ दिन पहले ही दक्षिण अफ्रीका में कोरोना रोगियों का इलाज करने वाले डॉक्टरों ने कहा है कि ओमिक्रॉन में सूखी खांसी, बुखार और रात को पसीना आना जैसे हल्के लक्षण दिखते हैं। हालाँकि विशेषज्ञ ठोस नतीजे आने तक किसी भी पक्के निष्कर्ष निकालने के प्रति चेता रहे हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें