loader

पाकिस्तान: अहमदियों पर ज़ुल्म, पेशावर छोड़कर जाने को मज़बूर 

पड़ोसी मुल्क़ पाकिस्तान में एक बार फिर अहमदिया समुदाय के लोगों पर ज़ुल्म की कहानी सामने आई है। इसलाम को ही मानने वाले अहमदिया समुदाय के लोग इन दिनों पेशावर छोड़कर जाने को मज़बूर हैं। इन लोगों को अपनी संपत्तियों को बेचना पड़ा है और महफूज़ जगह की तलाश में वे पाकिस्तान में दूसरी जगहों पर ठिकाना बना रहे हैं। 

ऐसा इसलिए है कि क्योंकि पेशावर में उनकी जान को हर वक़्त ख़तरा है। 22 करोड़ की आबादी वाले मुल्क़ पाकिस्तान में अहमदिया समुदाय के लोगों की संख्या क़रीब 40 लाख है। 

पाकिस्तान में अहमदिया समुदाय के लोगों के लिए जीना बेहद मुश्किल है। वे कट्टरपंथियों के ज़ुल्म का शिकार होते रहे हैं और कई ऐसे वाकये हुए हैं जब इस समुदाय के लोगों को ईशनिंदा के नाम पर क़त्ल किया गया है। 

ताज़ा ख़बरें

पेशावर अफ़ग़ानिस्तान से लगता हुआ इलाक़ा है और यहां पर बड़ी संख्या में कट्टरपंथियों के मदरसे हैं। इन मदरसों के लोग इसलाम की व्याख्या अपने हिसाब से करते हैं और उसे न मानने वाले उनके सितम का शिकार होते हैं। 

पाकिस्तान में अहमदियों के ख़िलाफ़ सोशल मीडिया पर नफ़रती अभियान लंबे वक़्त से चल रहा है और हालात ऐसे हैं कि वे खुलकर अपनी आस्था के बारे में बात नहीं कर सकते। 

कई बार अहमदियों की मसजिदों पर हमला किया जा चुका है और कट्टरपंथियों ने इसका जश्न भी मनाया है।

काफ़िर मानते हैं कट्टरपंथी 

कट्टरपंथियों का कहना है कि अहमदिया समुदाय के लोग मुसलमान नहीं हैं बल्कि काफ़िर हैं। इनका बायकॉट किया जाए और इनसे किसी तरह का लेन-देन न किया जाए। इस समुदाय के व्यापारियों के बायकॉट करने के कई वाकये पाकिस्तान में हो चुके हैं। अहमदियों को इस बात की भी इजाजत नहीं है कि वे दूसरे समुदाय की मसजिदों के अंदर नमाज़ अदा कर सकें। 

कौन हैं अहमदिया?

अहमदिया समुदाय के संस्थापक मिर्जा ग़ुलाम अहमद थे और इनका जन्म 1835 में पंजाब के क़ादियान इलाक़े में हुआ था। इनकी बातों को मानने वालों को अहमदिया के अलावा क़ादियानी भी कहा जाता है। 

पाकिस्तान में सुन्नी समुदाय की आबादी ज़्यादा है और वहां अहमदियों के साथ ही शिया और हजारा समुदाय पर भी ज़ुल्म की ख़बरें आती रहती हैं।

ग़ैर मुसलमान घोषित 

1973 तक पाकिस्तान में अहमदियों को मुसलमान ही माना जाता था। लेकिन 1974 के बाद उनके ख़ुद को मुसलमान कहने पर रोक लगा दी गई। 1974 में तत्कालीन राष्ट्रपति जुल्फ़िकार अली भुट्टो ने एक क़ानून बनाकर अहमदियों को ग़ैर-मुसलमान करार दे दिया। 1974 में ही पाकिस्तान में अहमदियों के ख़िलाफ़ बड़े पैमाने पर हिंसा हुई थी। इसके बाद 1984 में राष्ट्रपति जनरल जिया उल हक़ ने भी कई तरह की पाबंदियां अहमदियों पर लगा दीं। 

दुनिया से और ख़बरें

बहरहाल, पेशावर छोड़कर जा रहे अहमदिया समुदाय के लोग दूसरी जगहों पर भी अपनी पहचान छिपाकर रहने को मज़बूर हैं। उन्होंने औने-पौने दामों में अपनी संपत्तियों को बेचा है और वे नहीं जानते कि उन पर हो रहे ये ज़ुल्म कब ख़त्म होंगे। 

इमरान के राज में ज़ुल्म बढ़े

नए पाकिस्तान का नारा देकर हुक़ूमत में आए इमरान ख़ान के राज में अहमदियों पर ज़ुल्म बढ़े हैं। यह बात अहमदिया मुसलिम जमात ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष को बीते महीने लिखे एक पत्र में कही है। पत्र में लिखा है कि इमरान की हुक़ूमत ने अहमदिया समुदाय से जुड़ी 20 से ज़्यादा वेबसाइट को बंद कर दिया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें