loader

पहले चरण की वोटिंग में एनडीए-महागठबंधन में मुक़ाबला

देश भर में जिस राज्य के चुनाव की गूंज है, वहां आज पहले चरण का मतदान हो रहा है। 243 विधानसभा सीटों वाले बिहार में पहले चरण में 16 जिलों की 71 सीटों पर वोट डाले जाएँगे। लगभग सभी सीटों पर महागठबंधन और एनडीए के बीच जोरदार मुक़ाबला होने की उम्मीद है। 

इसके लिए 31 हज़ार मतदान केंद्र बनाए गए हैं। कुल 1,066 उम्मीदवार मैदान में हैं और 21,46,960 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। 2015 में पहले चरण की 71 सीटों में से 54 सीटों पर महागठबंधन को जीत मिली थी। जबकि एनडीए को 15 सीटें मिली थीं। 

दूसरे चरण में 17 जिलों की 94 सीटों पर और तीसरे चरण में 15 जिलों की 78 सीटों पर मतदान होगा। दूसरे चरण का मतदान 3 नवंबर को और तीसरे चरण का मतदान 7 नवंबर को होगा। चुनावी नतीजे 10 नवंबर को आएंगे। 

ताज़ा ख़बरें

पाकिस्तान का जिक्र 

पहले चरण के चुनाव प्रचार में बीजेपी नेताओं ने कश्मीर से लेकर पाकिस्तान तक का जिक्र कर बिहार चुनाव को राष्ट्रीय मुद्दों पर केंद्रित करने की कोशिश की लेकिन आरजेडी नेता और सामाजिक न्याय की राजनीति के झंडाबरदार लालू यादव की राजनीतिक विरासत संभालने वाले तेजस्वी ने उन्हें रोज़गार के मुद्दे पर बात करने को मजबूर कर दिया। 

तेजस्वी ने दस लाख लोगों को सरकारी नौकरी देने की बात कही तो बीजेपी और जेडीयू ने उनकी खिल्ली उड़ाई। लेकिन बीजेपी को जल्द समझ आ गया कि बिहार में कश्मीर, पाकिस्तान का कार्ड नहीं चलेगा और उसने 19 लाख नौकरियों का वादा कर दिया। लोगों ने बीजेपी से पूछा कि आप तो दस लाख में हाथ खड़े कर रहे थे तो 19 लाख नौकरियां कहां से दोगे, इस पर बीजेपी नेता गोल-मोल बातें करने लगे। 

पहले चरण में एलजेपी मुखिया चिराग पासवान ने नीतीश कुमार के ख़िलाफ़ जमकर जहर उगला। उन्होंने हर सीट पर जेडीयू उम्मीदवार को हराने के लिए ताक़त झोंकी और कहा कि चुनाव बाद राज्य में बीजेपी-एलजेपी की सरकार बनेगी तो नीतीश कुमार को जेल भेज देंगे। 

तेजस्वी और चिराग के हमलों से परेशान नीतीश कुमार बीजेपी द्वारा एनडीए के नाम पर मोदी का चेहरा चमकाने और कुछ ख़बरिया चैनलों के सर्वे में लोगों के उनसे नाराज़ होने की बात पर कुपित भी हुए।

कुछ चुनावी रैलियों में नीतीश आपा खोते नज़र आए और लालू पर व्यक्तिगत हमले करने लगे। दूसरी ओर, छोटे दलों के गठबंधन ग्रेंड डेमोक्रेटिक सेक्युलर फ्रंट, प्रोग्रेसिव डेमोक्रेटिक अलायंस ने भी अपनी मौजदूगी दर्ज कराने के लिए जोर लगाया लेकिन चुनावी सर्वे बताते हैं कि उनके लिए बिहार चुनाव में ख़ुश होने लायक कुछ नहीं है। 

देखिए, बिहार चुनाव पर चर्चा- 

जाति आधारित राजनीति का गवाह रह चुके बिहार में अभी भी नेता इस पैटर्न से हटना नहीं चाहते और अभी भी लोग अपनी जाति का नेता चुनना चाहते हैं। 

भोजपुर और पाटलिपुत्र-मगध के इलाक़े में भूमिहार ताक़तवर हैं तो यादव, कुर्मी, अति पिछड़ा और महादलित वर्ग के मतदाताओं की भी अच्छी संख्या है। नीतीश की कुर्मी, अति पिछड़ा और महादलित वोटों पर अच्छी पकड़ है। 

बिहार से और ख़बरें

ये हैं प्रमुख उम्मीदवार

प्रमुख उम्मीदवारों की बात करें तो नीतीश सरकार के मंत्री जय कुमार सिंह दिनारा से, राजस्व मंत्री राम नारायण मंडल बांका से और खनन मंत्री बृज किशोर बिंद चैनपुर से चुनाव लड़ रहे हैं। 

इसके अलावा जमुई सीट से गोल्ड मेडलिस्ट शूटर श्रेयसी सिंह, इमामगंज से पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी, इमामगंज से ही बिहार विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी उम्मीदवार हैं। बिहार सरकार के मंत्री प्रेम कुमार गया सीट से और शिक्षा मंत्री कृष्णा नंदन वर्मा जेहानाबाद से चुनाव मैदान में हैं। 

मोकामा सीट से बाहुबली अनंत सिंह और रामगढ़ सीट से आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह चुनाव लड़ रहे हैं। 

बीजेपी को ज़्यादा सीटें 

एबीपी न्यूज़-सी वोटर का सर्वे नीतीश के चेहरे पर आई चिंता की लकीरों को और गहरा करता है। क्योंकि सर्वे कहता है कि जेडीयू को 59-67, बीजेपी को 73-81, विकासशील इंसान पार्टी को 3-7 और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा को 0-4 सीटें मिल सकती हैं। मतलब साफ है कि बीजेपी थोड़ा नहीं ज़्यादा सीटों से आगे दिख रही है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें