loader
प्रतीकात्मक तसवीर।

बेरोज़गारी: सिर्फ़ 40 दिन में ही 69 लाख लोगों ने माँगीं नौकरियाँ; क्या मिलेंगी भी?

आर्थिक मंदी और कोरोना लॉकडाउन के बीच करोड़ों लोगों की नौकरियाँ ख़त्म हुई हैं, इसकी तसवीर अब नौकरी से जुड़े सरकारी पोर्टल पर ही दिखने लगी है। सिर्फ़ 40 दिन में 69 लाख लोगों ने नौकरी के लिए आवेदन दिया। बेरोज़गारी के भयावह संकट के बीच प्रधानमंत्री मोदी ने पिछले महीने 11 जुलाई को ही इस पोर्टल को लॉन्च किया है। हालाँकि इतनी संख्या में लोगों ने नौकरियाँ माँगी हैं लेकिन गिने-चुने लोगों को ही नौकरी करने का अवसर मिल पाया है। बेरोज़गारी की यह तसवीर सिर्फ़ आँकड़ा भले ही लगे, लेकिन सरकार के लिए यह ख़तरे की घंटी होनी चाहिए।

ताज़ा ख़बरें

वैसे, ख़तरे की घंटी तो सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी यानी सीएमआईई के बेरोज़गारी के आँकड़े से ही साबित हो गई होगी। लेकिन यदि सरकार को ग़लतफहमी हो कि ये सिर्फ़ आँकड़े हैं और लोगों की बेरोज़गारी कोई मुद्दा नहीं बनेगी तो नौकरी के लिए बनाए गए सरकारी पोर्टल पर नौकरी माँगने वालों की यह संख्या नेताओं की नींद उड़ाने के लिए काफ़ी है। 

अब इस सरकारी पोर्टल पर पिछले एक हफ़्ते में नौकरी ढूँढने वालों की संख्या और जिनको नौकरी मिली है उनकी संख्या को देखिए। यह संख्या काफ़ी कुछ कहती है।

पिछले एक हफ़्ते में 14 अगस्त से 21 अगस्त तक 7 लाख लोगों ने पोर्टल पर ख़ुद को रजिस्टर कराया। लेकिन इस दौरान सिर्फ़ 691 लोगों को नौकरियाँ मिलीं।

कौशल विकास मंत्रालय और उद्यमिता मंत्रालय द्वारा अपने ASEEM (Aatmanirbhar Skilled Employee Employer Mapping) पोर्टल पर डाले गए आँकड़ों के अनुसार, पंजीकरण करने वाले 69 लाख प्रवासी श्रमिकों में से 1.49 लाख को नौकरी की पेशकश की गई थी, लेकिन केवल 7,700 ही ज्वाइन कर सके।

पोर्टल पर 514 कंपनियाँ पंजीकृत हैं, जिनमें से 443 ने 2.92 लाख नौकरियाँ पोस्ट की हैं। आँकड़े बताते हैं कि इसमें से 1.49 लाख नौकरी चाहने वालों को नौकरी की पेशकश की गई है। 21 अगस्त को समाप्त सप्ताह में, पोर्टल पर सक्रिय कंपनियों की संख्या, जिसने कम से कम 1 नौकरी पोस्ट की है, पिछले सप्ताह के दौरान 419 से बढ़कर 443 हो गई है।

अगर देखा जाए तो लॉकडाउन के दौरान कंपनियाँ और दूसरे काम बंद होने से जितने लोगों की नौकरियाँ गई हैं उसके हिसाब से नौकरी माँगने वालों की यह संख्या काफ़ी कम है। सीएमआईई ने पिछले हफ़्ते ही रिपोर्ट में कहा था कि अप्रैल से लेकर जुलाई तक 1 करोड़ 89 लाख वेतन भोगी लोगों की नौकरियाँ चली गई हैं। इन वेतन भोगियों में वे शामिल नहीं हैं जो ग़ैर वेतन भोगी हैं यानी दिहाड़ी पर काम करते हैं। ऐसे लोगों की संख्या तो काफ़ी ज़्यादा है। वेतन भोगी लोगों की नौकरियाँ जाना लंबे समय के लिए अर्थव्यवस्था पर असर को दिखाता है और यह भी कि अर्थव्यवस्था की हालत बहुत ख़राब है। 

देश से और खबरें

वैसे वेतनभोगी लोगों की नौकरियाँ कम सिर्फ़ लॉकडाउन में ही नहीं हुई थीं। रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले वित्त वर्ष में भी रिपोर्ट नकारात्मक थी। सीएमआईई ने अपनी रिपोर्ट में ही कहा है कि 'वैसे तो वेतनभोगियों की नौकरियाँ आसानी से नहीं जाती हैं, लेकिन एक बार चली जाने के बाद उन्हें फिर से पाना और भी कठिन होता है। इसलिए, इतनी बड़ी संख्या में नौकरियाँ जाना चिंता की बात है। 2019-20 में वेतनभोगी नौकरियाँ अपने औसत से क़रीब 1 करोड़ 90 लाख कम थीं। पिछले वित्त वर्ष में वे अपने स्तर से 22 फ़ीसदी कम थीं।'

देखिए, क़रीब 1.9 करोड़ नौकरियाँ ख़त्म होने पर आलोक जोशी की रिपोर्ट-
असंगठित क्षेत्र में तो अप्रैल महीने में ही 12 करोड़ नौकरियाँ चली गई थीं। इनमें छोटे-मोटे काम धंधा करने वाले लोग और इस तरह के धंधों से जुड़ी दुकानों या कंपनियों में काम करने वाले लोग ज़्यादा हैं। सीएमआईई ने अनुमान लगाया था कि इसमें से कम से कम 75 प्रतिशत तो दिहाड़ी मज़दूर ही थे।
हालाँकि अगस्त महीने में आई रिपोर्ट में कहा गया है कि असंगठित क्षेत्र में और ग़ैर-वेतनभोगी नौकरियों में सुधार हुआ है। रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल जुलाई में असंगठित क्षेत्र में ऐसी नौकरियाँ 31 करोड़ 76 लाख थीं जो कि 2.5 प्रतिशत बढ़कर इस साल जुलाई में 32 करोड़ 56 लाख हो गईं। असंगठित क्षेत्र में दिहाड़ी मज़दूर, हॉकर्स, मज़दूर, कृषि क्षेत्र में काम करने वाले, फ़ैक्ट्रियों में काम करने वाले ग़ैर वेतन भोगी लोग शामिल हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें