loader
ग्रुप कैप्टन वरुण सिंहफ़ोटो साभार: @srinivasiyc

स्कूल में औसत दर्जे के छात्र शौर्य चक्र तक पहुँचा: हेलीकॉप्टर हादसे के सर्वाइवर

स्कूल में औसत दर्जे का होने से ही क्या आदमी की तकदीर तय हो जाती है? इसी हफ़्ते हेलीकॉप्टर दुर्घटना में एकमात्र जीवित बचे ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह की मानें तो ऐसा बिल्कुल नहीं है। वह खुद इसके उदाहरण हैं। उन्होंने लिखा है कि वह स्कूल में औसत दर्जे का छात्र थे यानी परीक्षा में अंक लाने में औसत दर्जे के थे, लेकिन वह बेहद सम्मानित और गर्व करने वाला 'शौर्य चक्र' का सम्मान पाने वाले शख्स हैं। 

कैप्टन वरुण सिंह ने यह बात हरियाणा के अपने स्कूल आर्मी पब्लिक स्कूल चांदीमंदिर कैटोनमेंट के प्रधानाचार्य को लिखे एक ख़त में कही है। उनका यह ख़त अब सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। उन्होंने यह ख़त इसी साल सितंबर महीने में तब लिखा था जब उन्हें शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया था। उस ख़त में उन्होंने स्कूली छात्रों को संबोधित किया था। वरिष्ठ पत्रकार विनोद कापड़ी ने उस ख़त को ट्वीट करते हुए लिखा है कि यह ख़त हर बच्चे, हर छात्र को पढ़ना चाहिए। 

प्रधानाचार्य को लिखे पत्र में ग्रुप कैप्टन सिंह ने कहा है कि वह बहुत ही औसत छात्र थे। उन्होंने लिखा है, 'मैंने मुश्किल से 12वीं क्लास में फर्स्ट डिविजन हासिल किया था। फिर भी मैंने 12वीं क्लास में अपने अनुशासन में कोई कमी नहीं आने दी। मैं खेल और अन्य ग़ैर-शैक्षिक गतिविधियों में भी औसत था।'

ग्रुप कैप्टन ने अपने अनुभव साझा करते हुए लिखा कि पिछले साल वह एक तेजस विमान उड़ा रहे थे, जिसमें एक बड़ी तकनीकी खामी आ गई थी। उन्होंने लिखा है कि उन्होंने उड़ान के बीच एक भीषण दुर्घटना को टाल दिया और इसीलिए उन्हें अगस्त में शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया।

ताज़ा ख़बरें

उन्होंने ख़त में लिखा है, 'औसत दर्जे का होना ठीक है... लेकिन यह किसी भी तरह से जीवन में आने वाली चीजों का पैमाना नहीं है। ...आप जो भी काम करते हैं, अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करें... कभी उम्मीद न खोएं।' 

उन्होंने लिखा था, 'औसत दर्जे का होना ठीक बात है। स्कूल में हर कोई उत्कृष्ट नहीं होता और सभी 90 प्रतिशत अंक नहीं ला पाते। अगर आप ऐसा कर पाते हैं तो यह एक उपलब्धि है उसकी सराहना होनी चाहिए।' 

देश से और ख़बरें

उन्होंने आगे लिखा था, 'पर यदि आप ऐसा नहीं कर पाते हैं तो यह न सोचें कि आप औसत दर्जे के ही रहेंगे। आप स्कूल में औसत दर्जे के हो सकते हैं लेकिन इसका मतलब नहीं है कि जीवन में आने वाली चीजें भी ऐसी ही होंगी।' 

लेकिन यदि आप पढ़ने में अव्वल नहीं हैं तो? इस बारे में ग्रुप कैप्टन ने लिखा था, 'अपने मन की सुनिए। आपके अंदर कला हो सकती है, संगीत हो सकता है...। आप जो भी काम कीजिये उसके प्रति समर्पित रहिये, अपना सबसे उत्कृष्ठ दीजिये।' उन्होंने सुझाव दिया है कि कभी यह नहीं सोचिए कि आपने कम प्रयास किया।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें