loader

राजस्थान में स्कूली बच्चों की वर्दी बदलने पर विवाद क्यों?

राजस्थान के स्कूली छात्रों के प्रस्तावित नये यूनिफॉर्म के रंग को लेकर फिर से विवाद छिड़ गया है। पिछली बार जब बीजेपी ने कथित तौर पर भगवा से कुछ मिलता-जुलता भूरे रंग का यूनिफॉर्म बदला था तब भी विवाद हुआ था और अब जब गहलोत सरकार ने नये यूनिफॉर्म की घोषणा की है तब भी इस पर बयानबाज़ी शुरू हो गई है।

दरअसल, राजस्थान के पब्लिक स्कूलों में अगले शैक्षणिक वर्ष से छात्रों की एक नई वर्दी होगी। शिक्षा मंत्रालय ने घोषणा की है कि 2017 में बीजेपी सरकार द्वारा लाए गए मौजूदा यूनिफॉर्म को ख़त्म कर दिया जाएगा। मौजूदा यूनिफॉर्म में हल्की भूरी शर्ट या कुर्ता, और भूरी पतलून या शॉर्ट्स, सलवार, स्कर्ट शामिल हैं। उस समय कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि वसुंधरा राजे सरकार द्वारा लाई गई वर्दी आरएसएस की पोशाक से मिलती जुलती थी।

ताज़ा ख़बरें

अब बुधवार को जारी राजस्थान सरकार के एक आदेश में स्कूल शिक्षा विभाग ने कहा है कि सरकारी स्कूलों में छात्र अब एक वर्दी पहनेंगे जो कि सिर्फ ब्लू और डार्क ग्रे का संयोजन है। सर्दियों में गहरे भूरे रंग के कोट और स्वेटर दिए जाएँगे। हालाँकि इस आदेश में यह भी साफ़ किया गया है कि वर्तमान शैक्षणिक सत्र में नई वर्दी लागू नहीं की जाएगी। यह शैक्षणिक वर्ष 2022-23 से अनिवार्य होगी।

शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने कहा है कि छात्र वर्दी के लिए 600 रुपये के हकदार हैं। अधिकारियों ने बताया कि सरकार जल्द ही नई वर्दी के लिए टेंडर निकालेगी। सरकारी स्कूलों में कक्षा एक से आठ तक के 66 लाख छात्र मुफ्त यूनिफॉर्म के हकदार हैं। सीनियर छात्रों को वही खरीदना होगा।

बीजेपी विधायक और पूर्व शिक्षा मंत्री वासुदेव देवनानी ने गहलोत सरकार के इस क़दम की आलोचना की है। 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने कहा, 'यह एक अधिनायकवादी फरमान है। छात्रों या अभिभावकों की किसी मांग के बिना तीन-चार साल के भीतर वर्दी बदलने का कोई तर्क नहीं है। वर्दी खरीदने के लिए अतिरिक्त भार माता-पिता को वहन करना होगा, जो पहले से ही कोरोना महामारी के बाद आर्थिक रूप से प्रभावित हैं।'

राजस्थान से और ख़बरें

राजस्थान के शिक्षा मंत्री बी डी कल्ला ने इस क़दम के पीछे किसी भी राजनीति से इनकार किया। उन्होंने कहा कि 'मेरे सामने मंत्री ने योजना पेश की। मैंने बस इसे मंजूरी दे दी। यह भाजपा ही है जिसने वर्दी पर राजनीति की, छात्रों को भगवा रंग की साइकिल बांटी, उनकी पार्टी के झंडे का रंग लगाया। नीले और ग्रे, वर्दी के नए रंग का राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है।'

ख़ास ख़बरें

पूर्व शिक्षा मंत्री और राज्य कांग्रेस प्रमुख डोटासरा ने कहा कि छह सदस्यीय पैनल की सिफारिश के आधार पर यह निर्णय लिया गया। उन्होंने कहा, 'समिति ने 2017 में बीजेपी सरकार के दौरान शुरू की गई वर्दी के बारे में माता-पिता और स्कूल के शिक्षकों की शिकायतों पर विचार किया और एक बदलाव की सिफारिश की।'

बता दें कि राजस्थान में स्कूली यूनिफॉर्म में 1996-1997 में बदलाव हुआ था। इसके बाद 20 सालों तक कोई बदलाव देखने को नहीं मिला। फिर साल 2017-2018 में यूनिफॉर्म का रंग बदला गया था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

राजस्थान से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें