loader

गर्भवती महिलाएँ भी ले सकती हैं कोरोना टीका

केंद्र सरकार ने कोरोना टीका नीति में बड़ा बदलाव करते हुए गर्भवती महिलाओं को भी टीका देने का एलान किया है। इसके तहत अब गर्भवती महिलाएं कोविन वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करा सकती हैं या सीधे टीका केंद्रों पर जाकर टीका लगवा सकती हैं। 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि गर्भवती महिलाओं का 'टीकाकरण किया जा सकता है' और उनका 'टीकाकरण किया जाना चाहिए।' गर्भवती महिलाओं और उनके बच्चों की सेहत के लिए यह ज़रूरी है।

कुछ दिन पहले तक दूध पिलाती माताओं को तो टीकाकरण किया जा रहा था, पर गर्भवती महिलाओं को टीका नहीं दिया जा रहा था। इसकी वजह यह है कि गर्भवती महिलाओं पर टीके के असर का कोई परीक्षण नहीं हुआ था और टीके के प्रभाव का कोई आँकड़ा नहीं था।

ख़ास ख़बरें

क्या कहना है आईसीएमआर का?

इंडियन कौंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के महानिदेशक डॉक्टर बलराम भार्गव ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा, स्वास्थ्य मंत्रालय ने दिशा -निर्देश दिए हैं और अब गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण किया जा सकता है। उनके लिए भी टीका उपयोगी है। 

pregnant women can get corona vaccine - Satya Hindi

गर्भवती महिलाओं पर अध्ययन

इसके पहले एक अध्ययन में पाया गया था कि कोरोना संक्रमण से गर्भवती महलाओं के स्वास्थ्य पर बुरा असर हो रहा था और उनमें कई गम्भीर बीमारियों का खतरा बढ़ रहा था। भ्रूण पर भी असर पड़ने की आशंका थी। 

अध्ययन में यह भी पाया गया था कि दूसरी महिलाओं की तुलना में गर्भवती महिलाओं में गम्भीर संक्रमण का खतरा अधिक है। कोरोना संक्रमित गर्भवती महिलाओं में प्रीम्च्योर बर्थ का ख़तरा भी देखा गया। 

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक गर्भवती महिलाएं गर्भावस्था के दौरान किसी समय कोरोना टीका ले सकती हैं।

pregnant women can get corona vaccine - Satya Hindi

महिलाओं का टीकाकरण कम

ब्रिटिश समाचार एजेंसी 'रॉयटर्स' के अनुसार, भारत में जितने पुरुषों को कोरोना टीका दिया गया है, उससे 17 प्रतिशत कम महिलाओं को यह यह टीका मिला है।

उसका कहना है कि भारत में अब तक 10 करोड़ से ज़्यादा लोगों का आंशिक या पूर्ण टीकाकरण हो चुका है। आंशिक टीकाकरण का मतलब टीके की एक खुराक़ और पूर्ण टीकाकरण का मतलब टीके की दो खुराक़ें मिलना। 

pregnant women can get corona vaccine - Satya Hindi

दिल्ली और उत्त प्रदेश जैसी जगहों पर यह असमानता अधिक गहरी देखी गई है। केरल और छत्तीसगढ़ ही वे राज्य है, जहाँ टीकाकरण के मामले में महिलाएँ थोड़ा आगे हैं। 

कोरोना टीकाकरण से जुड़ी सरकारी वेबसाइट 'कोविन' से लिए गए आँकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि सबसे ज़्यादा 52 प्रतिशत महिलाओं को केरल, 51 प्रतिशत महिलाओं को छत्तीसगढ़ और 50 प्रतिशत महिलाओं को हिमाचल प्रदेश में कोरोना वैक्सीन दिया गया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें