loader

कश्मीर से पाबंदियाँ हटाए भारत, पाक रोके आतंकवाद: अमेरिका

अमेरिका ने जम्मू-कश्मीर की स्थिति पर चिंता जताते हुए भारत से कहा है कि वह राज्य में लगी पाबंदियाँ हटाए,  इंटरनेट बहाल करे, गिरफ़्तार और नज़रबंद नेताओं को रिहा करे और राजनीतिक प्रक्रिया शुरू करे। लेकिन इसके साथ ही अमेरिका ने यह भी कहा है कि भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव की मुख्य वजह पाक-स्थित आतंकवादी गुट हैं और जब तक पाकिस्तान उन पर क़ाबू नहीं करता है, दोनों देशों के बीच रिश्ते अच्छे नहीं हो सकते।
मंगलवार देर रात तक अमेरिकी कांग्रेस में विदेश मंत्रालय की उपसमिति की सुनवाई चलती रही। इसमें कांग्रेस के डेमोक्रेट्स और रिपब्लिकन सदस्यों ने शिरकत की। अमेरिका की कार्यवाहक उपसचिव (दक्षिण व मध्य एशिया) एलिस वेल्स उपसमिति के सामने पेश हुईं और उनके सवालों के जवाब दिए। 
सम्बंधित खबरें
वेल्स ने कहा कि अमेरिका कश्मीर के 80 लाख लोगों के रोज़मर्रा की ज़िन्दगी के प्रभावित होने, उन पर पाबंदियाँ लगने और संचार पर लगी रोक से चिंतित है। उन्होंने उपसमिति को यह भी बताया कि अमेरिका ने जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्य मंत्रियों समेत कई नेताओं की गिरफ़्तारी पर चिंता जताते हुए उनकी रिहाई करने की माँग भारत से की है। इसके साथ ही भारत से यह भी कहा गया है कि वह राज्य में मानवाधिकारों का सम्मान करे।

अमेरिकी कांग्रेस के सदस्य इलहान उमर और प्रमिला जयपाल ने अमेरिकी लोकतंत्र व मानवाधिकार कार्यालय में उपसचिव रॉबर्ट डेस्ट्रो से तीखे सवाल पूछे। डेस्ट्रो ने भी उन्हें राज्य में लगी पाबंदियों की जानकारी दी और उस पर चिंता जताई। 

अमेरिका की कार्यवाहक उपसचिव एलिस वेल्स ने कहा कि 'दोनों देशों के बीच रिश्ते बेहतर करने और तनाव कम करने का एक ही रास्ता है और वह है दोनों के बीच हुए शिमला समझौते के तहत दोतरफा बातचीत।'
उन्होंने इसके साथ ही पाकिस्तान-स्थित आतंकवादी गुटों की गतिविधियों पर भी चिंता जताई और कहा कि 'जब तक इसलामाबाद उन पर रोक नहीं लगाता, रिश्ते बेहतर नहीं हो सकते।' 
उन्होंने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान ख़ान से अपील की कि वह उन आतंकवादी गुटों और सत्ता प्रतिष्ठान से बाहर के लोगों (नॉन स्टेट एक्टर्स) पर अंकुश लगाए जो सीमा पार भारत में आतंकवादी हमले करते रहते हैं। 
कार्यकारी उपसचिव ने पाकिस्तानी आतंकवादी गुट लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मुहम्मद का नाम लेकर कहा कि वे नियंत्रण रेखा पार कर आतंकवाादी कार्रवाइयों को अंजाम देते हैं। इसके लिए पाकिस्तान ज़िम्मेदार है।

अमेरिकी कांग्रेस की समिति की यह सुनवाई भारत के लिए कई मामलों में अहम है। इस सुनवाई से यह साफ़ हो गया है कि वाशिंगटन आतंकवाद के मुद्दे पर भारत के साथ है। वह यह मानता है कि कश्मीर की समस्या आतंकवादी गतिविधियों पर रोक लगाए बग़ैर नहीं सुलझ सकती। उसने एक बार फिर पाकिस्तान को इसके लिए ज़िम्मेदार माना है। इसके साथ ही यह साफ़ है कि अमेरिका अनुच्छेद 370 में हुए बदलाव को भारत का आंतरिक मामला मानता है। लेकिन इसके साथ ही वह यह भी चाहता है कि पाबंदियाँ हटें और स्थिति सामान्य हो। 

इस सुनवाई को एक तरह से भारत के पक्ष में कहा जा सकता है।  

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें