loader

येदियुरप्पा को हटाने के बाद भी नहीं थमे नाराज़गी के सुर

एक लंबी कवायद के बाद बीजेपी हाईकमान ने कर्नाटक में नेतृत्व परिवर्तन तो कर दिया लेकिन सरकार चलाने में जिस तरह की दिक्क़तें येदियुरप्पा के सामने आ रही थीं, वैसी ही नए मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई के सामने आ रही हैं। 

बीजेपी के ही नहीं, बल्कि 2019 में कांग्रेस-जेडीएस से बग़ावत कर पार्टी में आए विधायकों में से जिन लोगों को मंत्री बनाया गया है, वे भी नाराज़ हैं। ऐसे मंत्रियों में आनंद सिंह का नाम शामिल है। आनंद सिंह का कहना है कि उन्होंने जो मांगा था, वह उन्हें नहीं मिला है और वह मुख्यमंत्री से मिलकर इस बारे में बात करेंगे। 

इसी तरह एमटीबी नागराज भी उन्हें मिले विभागों से संतुष्ट नहीं हैं। वह भी कांग्रेस से बीजेपी में आए थे। इन दोनों मंत्रियों का कहना है कि येदियुरप्पा और बोम्मई, दोनों ने ही अपना वादा नहीं निभाया। 

ताज़ा ख़बरें

कर्नाटक में 4 अगस्त को विभागों का बंटवारा हुआ था और उसके तुरंत बाद नाराज़गी के सुर सुनाई दिए थे। तब बोम्मई ने कहा था कि हर किसी को वे विभाग नहीं मिल सकते, जिनकी उन्हें ख़्वाहिश है। 

लिंगायत समुदाय से आने वाले मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा है कि वह इन दोनों मंत्रियों से बात करेंगे। बोम्मई को येदियुरप्पा का भरोसेमंद माना जाता है। उनके पिता एसआर बोम्मई कर्नाटक के मुख्यमंत्री रहे थे। कांग्रेस-जेडीएस की सरकार गिरने के बाद जब बीजेपी की सरकार बनी थी, तो यहां तीन उप मुख्यमंत्री बनाए गए थे जबकि इस बार किसी भी नेता को उप मुख्यमंत्री नहीं बनाया गया है। 

कर्नाटक से और ख़बरें

बीजेपी के ‘अपने’ विधायक नाराज़

इस बात की भी ख़बरें हैं कि बीजेपी के कुछ वरिष्ठ विधायक कैबिनेट के विस्तार के बाद नाराज़ हैं। इन नेताओं का कहना है कि बाहर से आए लोगों को अहमियत दी गई है जबकि उन्हें बाहर ही रखा गया है। उनका साफ इशारा कांग्रेस-जेडीएस से आए विधायकों की ओर है। 

जिन वरिष्ठ बीजेपी विधायकों के नाराज़ होने की बात कही जा रही है, उनमें एम. सतीश रेड्डी, एसआर विश्वनाथ, एम. कृष्णप्पा, एसए रामदास, अरविंद बेलाड और विजयपुरा के विधायक बसनगौड़ा पाटिल यतनाल शामिल हैं। 

येदियुरप्पा को भी मुख्यमंत्री रहते हुए इन नेताओं से लगातार जूझना पड़ा था और ऐसा लग रहा है कि बोम्मई की राह भी आसान नहीं रहेगी। 

येदियुरप्पा के इस्तीफ़े के बाद लिंगायत संतों की नाराज़गी को देखते हुए कहा जा रहा था कि बीजेपी येदियुरप्पा की पसंद को नज़रअंदाज नहीं करेगी और ऐसा करके वह बेवजह लिंगायत समुदाय की नाराज़गी मोल नहीं लेगी। और आख़िरकार उसने ऐसा ही किया। 

ये नेता भी थे दौड़ में 

बोम्मई के अलावा राज्य के खनन मंत्री मुरूगेश निरानी, लिंगायत समुदाय से आने वाले विधायक अरविंद बेल्लाड और उद्योग मंत्री जगदीश शेट्टार, ब्राह्मण समुदाय से आने वाले नेताओं में पार्टी के महासचिव (संगठन) बीएल संतोष, केंद्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी, विधानसभा के स्पीकर विश्वेश्वर हेगड़े कगेरी का नाम मुख्यमंत्री पद के लिए चर्चा में चल रहा था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

कर्नाटक से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें