loader

अजित पवार और उनके परिजनों से जुड़ी एक हज़ार करोड़ की संपत्तियां जब्त

महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार और उनके परिवार से जुड़ी 1000 करोड़ रुपये की संपत्तियों को आयकर विभाग ने जब्त कर लिया गया है। इनमें से मुंबई के नरीमन टावर में बने निर्मल टावर की कुछ संपत्तियां, एक शुगर फ़ैक्ट्री और एक रिजॉर्ट भी शामिल है। यह आरोप है कि इन सभी संपत्तियों को अवैध रूप से ख़रीदा गया है। 

सूत्रों के मुताबिक़, आयकर विभाग का कहना है कि अजित पवार और उनके परिवार को इन बेनामी संपत्तियों से फ़ायदा मिला है। इसे देखते हुए एंटी बेनामी एक्ट लगाया गया है। पिछले महीने भी आयकर विभाग के अधिकारियों ने अजित पवार की बहनों के घरों और फर्म पर छापेमारी की थी। 

ताज़ा ख़बरें

आयकर विभाग ने कहा था कि अजित पवार और उनके परिवार के लोगों से क़रीब 1050 करोड़ के ट्रांजेक्शन के बारे में जानकारी हाथ लगी है। आयकर विभाग ने पवार के रिश्तेदारों के 25 रिहायशी घरों, 15 दफ्तरों पर छापेमारी की थी। 

आयकर विभाग की छापेमारी के जवाब में अजित पवार ने कहा था कि आयकर विभाग को किसी भी कंपनी या निजी व्यक्ति पर छापेमारी करने का अधिकार है लेकिन उनकी बहनों के घर पर की गई छापेमारी पूरी तरह से राजनीतिक बदले की भावना से की गई कार्रवाई है।

ताक़त का ग़लत इस्तेमाल?

पवार ने कहा था कि उनकी सभी संस्थाएं नियमित रूप से टैक्स देती हैं। उन्होंने जांच एजेंसियों के दुरूपयोग का आरोप लगाया था। एनसीपी के मुखिया और पूर्व केंद्रीय मंत्री शरद पवार ने भी अजित पवार के ठिकानों पर छापेमारी को लेकर बीजेपी पर हमला बोला था। उन्होंने कहा था कि लोग देख रहे हैं कि किस तरह ताक़त का ग़लत इस्तेमाल किया जा रहा है। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

ईडी ने की थी कार्रवाई 

इससे पहले ईडी ने जुलाई में महाराष्ट्र राज्य सहकारी बैंक (एमएससीबी) घोटाले के मामले में बड़ी कार्रवाई की थी। ईडी ने अजित पवार की 65 करोड़ रुपये की संपत्तियों को जब्त कर लिया था। महाराष्ट्र में 2019 के विधानसभा चुनाव से ठीक पहले महाराष्ट्र राज्य सहकारी बैंक में हज़ारों करोड़ रुपये के इस घोटाले की काफ़ी गूंज हुई थी। तब बॉम्बे हाई कोर्ट ने अजित पवार, पूर्व सांसद विजयसिंह मोहिते पाटिल, पूर्व सांसद आनंद राव अडसूल, शिवाजी राव नलावडे, दिलीप सोपल सहित 69 नेताओं के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज करने का आदेश दिया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें