loader

समीर वानखेड़े के जरिये हज़ारों करोड़ रुपये की उगाही हुई: नवाब मलिक

क्रूज़ ड्रग्स मामले में एनसीबी के ज़ोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े के ख़िलाफ़ मोर्चा खोलने वाले महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक ने एक बार फिर उन पर ताज़ा हमला किया है। मलिक ने मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेन्स में कहा कि समीर वानखेड़े ने हज़ारों करोड़ रुपये की वसूली की है। 

उन्होंने कहा कि समीर वानखेड़े महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस का क़रीबी है।

मलिक ने कहा, “वानखेड़े जब एनसीबी में आया, उसने अपनी प्राइवेट आर्मी खड़ी की। इस आर्मी में किरण गोसावी, सैम डिसूजा और मनीष भानुशाली आदि लोग थे। यह प्राइवेट आर्मी इस शहर में धड़ल्ले से करोड़ों का कारोबार करती है। वानखेड़े के जरिये हज़ारों करोड़ रुपये की उगाही हुई है।”
ताज़ा ख़बरें

...ढाई लाख रुपये का जूता 

मलिक ने कहा, “एनसीबी के किसी अफ़सर की कमीज 500-1000 रुपये से ज़्यादा की नहीं है। लेकिन समीर वानखेड़े की कमीज 70 हज़ार रुपये की क्यों है। हर दिन नया कपड़ा पहनते हैं। वानखेड़े की पतलून लाख रुपये की है, जूता ढाई लाख रुपये का है, घड़ी 25-30-50 लाख रुपये की है। बीते दिनों में उन्होंने जो कपड़े पहने हैं, उसकी क़ीमत 5-10 करोड़ की है।”  

‘अब तक बंद क्यों नहीं हुआ केस’

एनसीपी नेता मलिक ने कहा, “समीर वानखेड़े के आने के बाद एनसीबी ने एक मामला दर्ज किया था, इस केस में फ़िल्म इंडस्ट्री के कई सितारों- श्रद्धा कपूर, सारा अली ख़ान, दीपिका पादुकोण आदि को बुलाया गया। 14 महीने बाद भी यह केस बंद नहीं हुआ, चार्जशीट दाख़िल नहीं हुई है और इसी केस के तहत हजारों करोड़ रुपये वसूले गए हैं।” 

मलिक ने कहा, “सारी उगाही मालदीव में हुई है, मैंने दो तसवीरें दुबई और मालदीव की जारी की थीं। वानखेड़े का यह कहकर भाग जाना कि मैं मालदीव नहीं गया था लेकिन वह और उनकी बहन मालदीव में थे। एनसीबी जांच करे कि इसका ख़र्चा किसके अकाउंट से किया गया।”

मलिक ने कहा, “आर्यन ख़ान के मामले में 18 करोड़ रुपये की डील हुई थी, 8 करोड़ रुपये वानखेड़े के लिए मांगा गया था, सैम डिसूजा ने कहा है कि हां इस तरह की डील हुई थी और डिसूजा भी वानखेड़े की प्राइवेट आर्मी का सदस्य है।” 

मलिक ने पूछा कि एनसीबी के दफ़्तर में गोसावी क्या कर रहा था, वानखेड़े ही पूरा फर्जीवाड़ा रच रहा था और यह कोई छोटा-मोटा खेल नहीं है।

‘देशमुख को फंसाया गया’

मलिक ने कहा कि पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को फंसाया गया और आरोप लगाने वाले यानी मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह फरार हैं। उन्होंने कहा कि ट्वीट आ रहे हैं कि अगली बारी कैबिनेट मंत्री अनिल परब की है। मलिक ने पूछा, “केंद्र सरकार बताए कि परमबीर सिंह कहां हैं, लुकआउट नोटिस जारी होने के बाद भी परमबीर सिंह कहां चले गए।” 

किसी माई के लाल में हिम्मत नहीं है कि वह उंगली उठा दे कि नवाब मलिक के अंडरवर्ल्ड से संबंध हैं।


नवाब मलिक, कैबिनेट मंत्री, महाराष्ट्र।

फडणवीस को घेरा था 

मलिक ने सोमवार को महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस पर बड़ा आरोप लगाया था। मलिक ने कहा था कि फडणवीस के गुजरात की जेल में बंद जयदीप राणा नाम के एक ड्रग पैडलर से संबंध हैं। मलिक ने कहा था कि फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस के मशहूर रिवर सॉन्ग के लिए जयदीप राणा ने ही फंड जुटाया था। साथ ही फडणवीस के कार्यकाल में जयदीप का ड्रग्स का कारोबार जमकर चल रहा था। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

लेकिन फडणवीस ने पलटवार करते हुए कहा था कि नवाब मलिक के आरोप बेबुनियाद हैं। फडणवीस ने कहा था कि नवाब मलिक का संबंध अंडरवर्ल्ड से है और वह दीवाली के बाद बड़ा बम फोड़ेंगे। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा था कि जिनके दामाद ड्रग्स केस में आरोपी हैं, वही लोग दूसरों पर आरोप लगा रहे हैं। 

चिट्ठी से मचा था हड़कंप

कुछ दिन पहले मलिक ने 4 पेज की चिट्ठी जारी की थी और आरोप लगाया था कि एक साल में एनसीबी के 26 ऐसे केस हैं, जिनमें समीर वानखेड़े ने अपने अधिकारियों के साथ मिलकर कथित तौर पर वसूली की थी। इस चिट्ठी में दिल्ली पुलिस के कमिश्नर और एनसीबी के तत्कालीन डीजी राकेश अस्थाना का भी नाम है। बॉलीवुड के कलाकारों से भी वसूली की गई, इस बात का भी ज़िक्र इस चिट्ठी में किया गया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें