loader

उपचुनाव: हिमाचल में कांग्रेस, बंगाल में ममता ने दिखाया दम

13 राज्यों की तीन लोकसभा और 29 विधानसभा सीटों के नतीजे आ गए हैं। इन सीटों पर 30 अक्टूबर को मतदान हुआ था। पांच राज्यों के चुनाव से पहले हुए इन उपचुनावों के नतीजों को काफ़ी अहम माना जा रहा है। 

मंडी में कांग्रेस जीती 

हिमाचल प्रदेश की मंडी लोकसभा सीट पर कांग्रेस को जीत मिली है। यहां कांग्रेस उम्मीदवार प्रतिभा सिंह ने बीजेपी के उम्मीदवार खुशाल ठाकुर को शिकस्त दी है। फतेहपुर, जुब्बल-कोटखाई और अर्की विधानसभा सीट पर भी कांग्रेस ने जीत दर्ज की है। 

Counting in Bypolls 2021 on Lok Sabha and assembly seats  - Satya Hindi
हिमाचल के चुनाव नतीजे बीजेपी के लिए बेहद निराशाजनक रहे हैं। राज्य में उसकी सरकार है लेकिन बावजूद इसके कांग्रेस ने शानदार प्रदर्शन किया है। 

शिव सेना को मिली जीत 

दादरा और नगर हवेली लोकसभा सीट पर शिव सेना को जीत मिली है। शिव सेना की उम्मीदवार कलाबेन डेलकर ने बीजेपी उम्मीदवार महेश गावित को हराया है। कलाबेन डेलकर पूर्व सांसद मोहन डेलकर की पत्नी हैं। मोहन डेलकर ने सुसाइड नोट में गुजरात के बड़े बीजेपी नेता और अंडमान के प्रशासक प्रफुल पटेल का नाम लिखा था। 

मध्य प्रदेश: कांग्रेस को मिली एक सीट 

मध्य प्रदेश की खंडवा लोकसभा सीट पर बीजेपी उम्मीदवार ज्ञानेश्वर पाटिल ने कांग्रेस उम्मीदवार राजनारायण सिंह पूर्णी को हरा दिया है। पृथ्वीपुर और जोबाट विधानसभा सीट पर बीजेपी ने जीत हासिल की है जबकि रैगांव सीट पर कांग्रेस ने जीत हासिल की है। 

ताज़ा ख़बरें

ममता ने दिखाया दम

पश्चिम बंगाल में चार सीटों पर उपचुनाव हुए थे और यहां सभी सीटों पर हुकूमत में बैठी टीएमसी ने जीत हासिल की है। ये सीटें- दिन्हाटा, शांतिपुर, खरदाह और गोसाबा हैं। उपचुनाव के नतीजों से ममता बनर्जी ने दिखा दिया है कि बंगाल में उनका सियासी क़द बाक़ी दलों के नेताओं से कहीं बड़ा है। ममता ने कुछ महीने पहले हुए विधानसभा चुनाव में भी बीजेपी और बाक़ी दलों को करारी शिकस्त दी थी। ममता का ध्यान इन दिनों गोवा के विधानसभा चुनाव पर है। 
Counting in Bypolls 2021 on Lok Sabha and assembly seats  - Satya Hindi
टीएमसी ने चारों सीटें बड़े अंतर से जीती हैं। इसमें दिन्हाटा में जीत का अंतर डेढ़ लाख वोटों से ज़्यादा रहा है जबकि गोसाबा में भी उसे लगभग डेढ़ लाख वोटों से जीत मिली है। 

बिहार: दोनों सीटें जेडीयू के खाते में 

बिहार में तारापुर और कुशेश्वर स्थान सीट पर जेडीयू को जीत मिली है। तारापुर में अंत तक जेडीयू और आरजेडी में कड़ी टक्कर रही। इस बार कांग्रेस और आरजेडी ने अलग-अलग चुनाव लड़ा था। बिहार में कांग्रेस का प्रदर्शन काफ़ी ख़राब रहा है। लेकिन महाराष्ट्र में देगलुर सीट पर कांग्रेस को जीत मिली है।

असम में एनडीए का डंका

असम में भवानीपुर, मरियानी और थोवरा सीट पर बीजेपी को जीत मिली है जबकि गोसाईगांव और तमूलपुर सीट उसकी सहयोगी यूपीपीएल के खाते में गई है। मुख्यमंत्री हिमंता बिस्व सरमा ने सर्बानंद सोनोवाल की जगह उन्हें मुख्यमंत्री बनाए जाने के फ़ैसले को सही साबित कर दिखाया है। 

जबकि कांग्रेस को यहां झटका लगा है, उसे एक भी सीट पर जीत नहीं मिली है। उसने कुछ वक़्त पहले अपने सहयोगी दल एआईयूडीएफ़ के साथ गठबंधन तोड़ दिया था। 

Counting in Bypolls 2021 on Lok Sabha and assembly seats  - Satya Hindi

अभय चौटाला जीते

हरियाणा की एलनाबाद सीट पर इनेलो उम्मीदवार अभय चौटाला ने जीत हासिल की है। चौटाला ने कृषि क़ानूनों के विरोध में विधानसभा से इस्तीफ़ा दे दिया था। चौटाला ने बीजेपी-जेजेपी के उम्मीदवार गोविंद कांडा को हराया है। कांग्रेस यहां तीसरे नंबर पर रही है। 

‘इस्तीफ़ा दें खट्टर’

जीत के बाद अभय चौटाला ने कहा है कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को अपने पद से इस्तीफ़ा दे देना चाहिए। उन्होंने कहा कि उनकी इस जीत का श्रेय किसानों को जाता है। किसानों ने भी इस इलाक़े में बीजेपी-जेजेपी को हराने का आह्वान किया था। किसान आंदोलन की वजह से बीजेपी और जेजेपी के नेताओं का इस इलाक़े में जोरदार विरोध हो रहा है। 

कर्नाटक: बीजेपी-कांग्रेस को एक-एक सीट 

कर्नाटक में मुक़ाबला बराबरी पर छूटा है। यहां बीजेपी और कांग्रेस को एक-एक सीट पर जीत मिली है। हांगल सीट पर कांग्रेस जीती है जबकि सिंदगी सीट बीजेपी की झोली में गई है। जेडीएस दोनों सीटों पर तीसरे नंबर पर रही है। पहले कांग्रेस और जेडीएस का गठबंधन था और दोनों ने मिलकर सरकार भी चलाई थी लेकिन अब दोनों दलों के रास्ते अलग हो गए हैं। 

राजनीति से और ख़बरें

राजस्थान: बीजेपी का प्रदर्शन बेहद ख़राब

राजस्थान में वल्लभनगर और धरियावद सीट पर कांग्रेस ने जीत दर्ज कर ली है। इन दोनों सीटों पर बेहतर प्रदर्शन करके मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कांग्रेस हाईकमान को संदेश दिया है कि राज्य में उनकी पकड़ मजबूत है। गहलोत का लंबे समय से सचिन पायलट के साथ सियासी टकराव चल रहा है। बीजेपी का प्रदर्शन दोनों सीटों पर बेहद निराशाजनक रहा है। यहां वसुंधरा राजे और बीजेपी के बाक़ी नेताओं के बीच सियासी टकराव की ख़बरें आती रहती हैं।  

मेघालय में सरकार चला रही नेशनल पीपल्स पार्टी ने राजबाला और मावरिंगकेनेंग सीट जीत ली है जबकि मावफलांग सीट पर यूडीपी को जीत मिली है। 
मिज़ोरम की तुईरियल सीट पर सत्तारूढ़ मिज़ो नेशनल फ्रंट ने जीत हासिल की है। तेलंगाना की हुज़ूराबाद सीट पर बीजेपी ने टीआरएस को हरा दिया है जबकि आंध्र प्रदेश की बडवेल सीट पर वाईएसआर कांग्रेस को जीत मिली है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें