loader
रुझान / नतीजे चुनाव 2022

दिल्ली नगर निगम चुनाव 2022 0 / 250

बीजेपी
0
आप
0
कांग्रेस
0
अन्य
0

कोरोना का डर, सरकारी सख़्ती के बाद लंगर बांटने से पीछे हटी एसजीपीसी

कोरोना वायरस ने मानवता को समर्पित पंजाब की विश्व विख्यात रवायत लंगर सेवा पर भी असर डाल दिया है। सरकारी सख़्ती के बाद अब शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) ने लंगर सेवा से हाथ खींचने शुरू कर दिए हैं। एसजीपीसी के मुख्य सचिव डॉ. रूप सिंह ने इसकी पुष्टि की है। 

शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी अब तक पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और जम्मू के लगभग 80 गुरुद्वारों में लंगर तैयार करवाकर प्रतिदिन लाखों जरूरतमंदों का पेट भर रही थी। लेकिन अब इसकी रफ्तार रुक गई है। पटियाला, होशियारपुर और जालंधर में लंगर की सेवा में शामिल कुछ लोगों के कोरोना संक्रमित होने के बाद सरकार ने खुले में लंगर वितरित करने पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसके बाद एसजीपीसी ने भी लंगर वितरण की सेवा में भारी कटौती कर दी है। 

अमृतसर स्थित श्री हरमंदिर साहिब में तैयार करके बांटा जाने वाला लंगर लगभग बंद कर दिया गया है। अब सिर्फ परिसर में बने लंगर हॉल में आई संगत और यहां पहुंचे जरूरतमंदों को ही लंगर मुहैया करवाया जा रहा है।

अमृतसर के अन्य गुरुद्वारों में भी लंगर वितरण का काम फिलहाल रोक दिया गया है। शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के मुख्य सचिव डॉ. रुप सिंह कहते हैं, ‘सरकार और प्रशासन की हिदायतों के बाद लंगर बांटने की सेवा में कमी आई है। कुछ जिलों के उपायुक्तों ने इस सेवा पर प्रतिबंध लगा दिया है।’ उधर, अमृतसर के जिला उपायुक्त शिवदुलार सिंह ढिल्लोंं ने कहा कि सूबे में कोरोना वायरस के बेतहाशा बढ़ते ख़तरे के मद्देनजर कुछ एहतियाती कदम उठाए गए हैं। इसके तहत एसजीपीसी को भी जरूरी हिदायत दी गई है।   

ताज़ा ख़बरें

ग़ौरतलब है कि कोरोना वायरस के संक्रमण के बाद पंजाब में लागू हुए कर्फ्यू और देशव्यापी लॉकडाउन के बाद एसजीपीसी सहित हजारों धार्मिक और सामाजिक संस्थाएं लाखों जरूरतमंदों तक खाना पहुंचा रही थीं। लेकिन कुछ लोगों के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद सरकार को सख़्ती करनी पड़ी है। 

ऐसे में जो संस्थाएं निजी तौर पर लंगर बांट रही थीं, उन्हें ऐसा करने से रोक दिया गया है। शेष संस्थाएं लाइसेंस लेकर सरकारी अमले के साथ लंगर बांंट सकती हैं। उनके लिए विशेष एडवाइजरी भी जारी की गई है। शहरी इलाक़ों में लंगर तहसीलदार, नायब तहसीलदार, कानूनगो और पटवारी की देखरेख में बांटा जाएगा जबकि ग्रामीण इलाकों में यह काम सरपंच के जरिए होगा। 

पंजाब से और ख़बरें

यह क़दम इसलिए उठाया गया है कि सोशल डिस्टेंसिंग सहित अन्य नियमों की अनदेखी न हो और सावधानी का पूरा पालन हो। सख्ती के बाद लगभग 75 फीसदी संस्थाओं ने लंगर सेवा से हाथ खींच लिया है।

प्रवासी मजदूरों पर असर

इसका सबसे ज्यादा असर प्रवासी मजदूरों पर पड़ रहा है। पंजाब के तमाम इलाकों से ख़बरें हैं कि श्रमिकों तक उनके ठिकानों पर पहुंचाया जाने वाला लंगर अब नहीं पहुंच रहा है और वे भुखमरी की कगार पर हैं। लुधियाना, जालंधर और अमृतसर में प्रवासी मजदूरों की तादाद सबसे ज्यादा है। पंजाब के एक से दूसरे कोने तक प्रवासी मजदूर अभावग्रस्त हैं और मुसीबत के इस वक्त में लंगर ही उनका सबसे बड़ा सहारा है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
अमरीक

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें