loader

पुडुचेरी बीजेपी ने वोटरों के फोन नंबर कैसे निकाले, जाँच हो: HC

मद्रास हाई कोर्ट का एक आदेश पुदुचेरी विधानसभा चुनाव में बीजेपी को झटका देने वाला है। इसने यूआईडीएआई को कहा है कि वह यह पता लगाए कि बीजेपी की पुदुचेरी इकाई ने वोटरों के मोबाइल नंबर कहाँ से निकाले। अदालत ने चुनाव आयोग और पुलिस को भी अपनी-अपनी जाँच जारी रखने और छह हफ़्ते बाद रिपोर्ट सौंपने के लिए कहा है। पुदुचेरी में चुनाव होने वाले हैं और इस लिहाज से बीजेपी के लिए कोर्ट का यह आदेश नुक़सान पहुँचाने वाला हो सकता है।

कोर्ट का यह फ़ैसला एक याचिका पर आया है। यह याचिका भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी की युवा इकाई डीवाईएफ़आई की स्टेट कमिटी के अध्यक्ष ए आनंद ने दाखिल की थी। 

ताज़ा ख़बरें

आनंद ने याचिका में आरोप लगाया कि आधार से जुड़े मतदाताओं का विवरण बीजेपी के चुनाव अभियान के लिए इस्तेमाल किया गया था। आनंद ने कहा कि उन्हें और केंद्र शासित प्रदेश के अन्य निवासियों को बूथ-स्तर के वाट्सऐप समूहों में शामिल होने के लिए कथित तौर पर बीजेपी से उनके फ़ोन पर संदेश के रूप में इनविटेशन लिंक मिले। इसके अलावा, दलील में कहा गया है कि संदेश केवल उन फोन नंबरों पर प्राप्त किए गए थे जो आधार कार्ड से जुड़े थे, जबकि आधार से नहीं लिंक किए गए नंबर को ऐसे कोई संदेश नहीं मिले थे।

मुख्य न्यायाधीश संजीब बनर्जी और न्यायमूर्ति सेंथिलकुमार राममूर्ति की खंडपीठ ने बीजेपी पुदुचेरी के इस रुख पर भी संदेह जताया कि इसने पार्टी के कार्यकार्ताओं द्वारा किए गए डोर-टू-डोर अभियानों के ज़रिए मोबाइल नंबर हासिल किए हैं।

कोर्ट के आदेश में कहा गया, 'एक विश्वसनीय आरोप लगाया गया है कि केवल आधार कार्ड से जुड़े मोबाइल फ़ोन पर एसएमएस संदेश मिले हैं। अब यूआईडीएआई की ज़िम्मेदारी है कि ठोस जवाब दे। इसमें कोई संदेह नहीं है कि ऐसी एक निकाय है जिसे नागरिकों की सूचना को जिम्मेदारी के साथ दी गई है। सूचना लीक, यदि कुछ ऐसा हुआ है तो, होने के स्रोत का पता लगाने के लिए एक उपयुक्त जाँच आयोजित की जाएगी।'

ए आनंद की याचिका पर उनका पक्ष रख रहे वरिष्ठ वकील ने कोर्ट से माँग की कि चुनाव आयोग को बीजेपी की इकाई को सस्पेंड कर देना चाहिए। उन्होंने बीजेपी पर चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप लगाया।

कोर्ट ने कहा कि ऐसे आरोप लगाए गए हैं कि चुनावी लाभ के इतर यह मामला लोगों की निजता में सेंधमारी का भी है। चुनावी माहौल में यह मुद्दा खोना नहीं चाहिए। लोकतंत्र में विश्वास बनाए रखने के लिए और निष्पक्ष चुनाव के लिए ज़िम्मेदार संस्थान इस मामले पर जवाब दें।

राज्य से और ख़बरें

बीजेपी पुदुचेरी ने आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन किया है या नहीं, यह तय करने की ज़िम्मेदारी न्यायालय ने चुनाव आयोग पर छोड़ दी है। चुनाव आयोग ने कल अदालत को सूचित किया था कि दिल्ली में चुनाव आयोग द्वारा मामले की जाँच की जा रही है और एक या दो दिन में निर्णय लिया जाएगा।

कोर्ट ने यह भी कहा कि चुनाव आयोग मतदाताओं की गोपनीयता की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध है। अब इस मामले की अगली सुनवाई छह हफ़्ते बाद होगी।

हालाँकि, बीजेपी ने याचिका में लगाए गए आरोपों को साज़िश क़रार देते हुए खारिज कर दिया है। 'इंडिया टुडे' से बातचीत में पुडुचेरी के बीजेपी प्रमुख राजीव चंद्रशेखर ने कहा कि डीवाईएफआई के कार्यकर्ताओं का कोर्ट जाना और बीजेपी पर आरोप लगाना साज़िश का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि ये उन लोगों की साज़िश है जो लोग बीजेपी से लड़ नहीं पा रहे हैं।'

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

राज्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें