loader

बीजेपी विधायक ने सपना चौधरी का नाम लेकर सोनिया को बताया नाचने वाली

बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने एक बार फिर बेहद घटिया बयान दिया है। हरियाणवी डांसर सपना चौधरी के कांग्रेस जॉइन करने की ख़बरों पर सुरेंद्र सिंह ने सपना चौधरी की तुलना यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गाँधी से की है। सुरेंद्र सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी को सपना चौधरी को अपना बना लेने की नसीहत तक दी है। हालाँकि सपना चौधरी ने रविवार को एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस करके कांग्रेस में शामिल होने से इनकार किया है। 

ताज़ा ख़बरें

सवाल यह उठता है कि महिलाओं को लेकर इतनी घटिया बयानबाज़ी करने वालों पर बीजेपी का नेतृत्व आख़िर कार्रवाई क्यों नहीं करता। और ऐसा पहली बार हुआ हो, ऐसा भी नहीं है। महिलाओं के ख़िलाफ़ घटिया बयान देने वालों की बीजेपी में लंबी फ़ेहरिस्त है। हैरानी इस बात की है कि ख़ुद को चाल, चरित्र और चेहरे वाली और दूसरों से अलग बताने वाली बीजेपी इस पर चुप है। पहले सुनिए विधायक सुरेंद्र सिंह का बयान - 

उत्तर प्रदेश के बलिया से बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा, 'राहुल जी भी अपनी कुल परंपरा को आगे बढ़ाएँ यह अच्छी बात है। उनकी माताजी (सोनिया गाँधी) भी इटली में इसी पेशे से थीं और आज फिर सपना को भी उन्होंने अपना बना लिया। मैं तो धन्यवाद दूँगा राहुल जी को कि जैसे आपके पिताजी (राजीव गाँधी) ने सोनिया जी को अपना बना लिया, आप भी भारत की राजनीति में सपना को अपना बनाकर राजनीति की नई पारी की शुरुआत करें।' 
उत्तर प्रदेश से और ख़बरें
सुरेंद्र सिंह ने आगे कहा, '(राहुल गाँधी) इसके लिए आपको साधुवाद लेकिन भारत की जनता कभी भी नर्तकी को देश चलाने की इजाजत नहीं देती। देश नरेंद्र मोदी जैसे ईमानदार और चरित्रवान नेता के हाथों में होना चाहिए। नर्तकी के आने से भारतीय राजनीति पर कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है।

मुझे ख़ुशी है कि अब राहुल जी ने नेताओं पर भरोसा हटा लिया है और नर्तकी पर भरोसा करना चालू कर दिया है। सबसे अच्छा तो यह हो गया है अब सास और बहू दोनों ही एक ही कल्चर और एक ही पेशे से रहेंगी।


सुरेंद्र सिंह, बीजेपी विधायक, बलिया, उत्तर प्रदेश

बीजेपी विधायक के इस घटिया बयान के सामने आने के बाद आपको बहुत ज़्यादा आश्चर्य नहीं होना चाहिए क्योंकि यह ‘माननीय’ विधायक कई बार महिलाओं को लेकर बेहद भद्दी टिप्पणियाँ कर चुके हैं। कुछ समय पहले सुरेंद्र सिंह ने कहा था कि राहुल गाँधी की बहन प्रियंका गाँधी सूपर्णखा हैं। सुरेंद्र सिंह ने पिछले साल बसपा सुप्रीमो मायावती की तुलना भैंस से कर दी थी।  

उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री श्रीकांत शर्मा ने दो दिन पहले ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी को कायर और नपुंसक बताया था। राजनीति में भाषा की मर्यादा का ख़्याल सबसे पहले रखा जाता है। लेकिन श्रीकांत शर्मा तो एकदम ओछी बयानबाज़ी पर उतर आए। किसी भी राजनीतिक दल के अध्यक्ष के ख़िलाफ़ इतना घटिया बयान देने के बाद भी बीजेपी नेतृत्व ने उनके ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं की। 

Bjp Mla Surendra Singh Controversial Statement Sapna Chaudhary Joins Congress - Satya Hindi
बीजेपी की विधायक साधना सिंह के बसपा सुप्रीमो मायावती को लेकर दिए गए बयान पर काफ़ी हंगामा हुआ था। साधना सिंह ने एक कार्यक्रम में कहा था, ‘मायावती किन्नर से भी ज़्यादा बदतर है, क्योंकि न तो वह नर है और न ही महिला।' गेस्ट हाउस कांड का हवाला देते हुए साधना सिंह ने कहा था कि चीरहरण होने के बाद भी वह (मायावती) गठबंधन कर रही है। साधना सिंह यूपी के चंदौली जिले की मुगलसराय सीट से विधायक हैं। 
सम्बंधित खबरें
  • उत्तर प्रदेश के बस्ती से बीजेपी सांसद हरीश द्विवेदी ने भी कुछ महीने पहले प्रियंका गाँधी पर शर्मनाक बयान दिया था। सांसद ने कहा था, ‘राहुल गाँधी की तरह प्रियंका गाँधी वाड्रा भी फ़ेल हैं। जब प्रियंका दिल्ली में रहती हैं तो जींस और टॉप में रहती हैं और जब क्षेत्र में आती हैं तो साड़ी और सिंदूर लगाकर आती हैं।’ बीजेपी सांसद की नज़र में प्रियंका ने जींस और टॉप पहनकर कोई बहुत बड़ा ग़ुनाह कर दिया है।
प्रियंका के राजनीति में आने पर बीजेपी के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा था कि कांग्रेस ‘चॉकलेटी’ चेहरों का सहारा लेकर चुनाव लड़ना चाहती है। बीजेपी के ही वरिष्ठ नेता और बिहार सरकार में मंत्री गोविंद नारायण झा ने प्रियंका के बारे में कहा था कि ‘सुंदर’ होने के अलावा प्रियंका गाँधी की कोई और उपलब्धि नहीं है। शास्त्रों में कहा गया है कि यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता अर्थात जहाँ महिलाओं का आदर होता है, वहाँ देवता निवास करते हैं। लेकिन ख़ुद को भारतीय संस्कृति का चौकीदार बताने वाली  बीजेपी के विधायक, सांसद और मंत्री महिलाओं के ख़िलाफ़ घटिया बयान देते रहे हैं। लेकिन बीजेपी के नेतृत्व की ओर से कभी ऐसे नेताओं के ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई नहीं की गई, जिससे वे ऐसे बयान देने की जुर्रत नहीं कर सकें। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें