loader
फ़ोटो साभार: ट्विटर/@GhumIndiaGhum

चारधाम यात्रा कल से; जानिए, कोरोना काल में किनको मिलेगी अनुमति

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा है कि चारधाम यात्रा 18 सितंबर यानी शनिवार से शुरू होगी। हाई कोर्ट से हरी झंडी मिलने के एक दिन बाद ही इसकी घोषणा की गई है। कोरोना संक्रमण के मद्देनज़र पहले इसको रोक दिया गया था। सरकार द्वारा इसको शुरू किये जाने के बार-बार प्रयासों के बावजूद हाई कोर्ट ने ऐसा करने से इनकार कर दिया था। कोर्ट ने तो यहाँ तक कहा था कि वह चारधाम यात्रा को 'एक और कुंभ' नहीं बनने देना चाहता है। कुंभ के दौरान कोरोना संक्रमण तेज़ी से फैला था और फिर दूसरी लहर में देश भर में तबाही आई थी। 

ताज़ा ख़बरें

लेकिन अब नैनीताल उच्च न्यायालय ने वार्षिक तीर्थयात्रा पर से प्रतिबंध हटा दिया। उसने गुरुवार को प्रतिबंध हटाते हुए कहा कि चारधाम यात्रा में शामिल होने के लिए कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट ज़रूरी होगी और पूरी तरह से टीका लगाए हुए लोगों को ही जाने की अनुमति दी जाएगी। इसके साथ ही अदालत ने कहा है कि भक्तों को सख़्त कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना होगा। इसने यात्रियों की संख्या को भी सीमित कर दिया है।

उच्च न्यायालय ने कहा है कि एक दिन में केदारनाथ धाम में 800, बद्रीनाथ धाम में 1,200, गंगोत्री में 600 और यमुनोत्री धाम में 400 भक्तों को ही जाने की अनुमति होगी। कोर्ट का यह फ़ैसला उत्तराखंड सरकार द्वारा 8 सितंबर को दायर हलफनामे पर आया है। उसमें वार्षिक तीर्थयात्रा को फिर से शुरू करने की मांग की गई थी।

उच्च न्यायालय ने 28 जून को यात्रा यह कहते हुए रोक दी थी कि चारधाम ज़िलों में स्वास्थ्य सेवाओं की कमी है, कोरोना वायरस संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए पर्याप्त तैयारी की कमी है और डॉक्टरों की कमी है।

लेकिन हाईकोर्ट की इस रोक के बाद भी राज्य सरकार यात्रा शुरू कराने पर तुली रही तो अदालत ने सरकार की खिंचाई की थी। 

हाई कोर्ट ने जुलाई में एक सुनवाई के दौरान कहा था कि सरकार धार्मिक बहस न करे क्योंकि उसका कोई क़ानूनी आधार नहीं है। अदालत ने चार धाम यात्रा पर रोक लगाते हुए उसके अनुष्ठान की लाइव स्ट्रीमिंग करने को कहा था। इस पर सरकार की तरफ़ से पेश अटॉर्नी जनरल ने कहा था कि लाइव स्ट्रीमिंग नहीं की जा सकती क्योंकि शास्त्रों में इसकी मनाही है। इसपर अदालत ने कहा था कि 'भारत एक लोकतांत्रिक देश है और यहां संविधान का शासन चलता है, शास्त्रों का नहीं।' 

उत्तराखंड से और ख़बरें
इससे पहले अप्रैल महीने में एक सुनवाई के दौरान अदालत ने राज्य सरकार से कहा था कि वह चार धाम यात्रा से जुड़े दिशा निर्देश जारी करे, कोरोना से निपटने की तैयारी के बारे में बताए और कोरोना-अस्पतालों व ऑक्सीजन लगे बिस्तरों की तादाद बढ़ाए। तब अदालत ने कहा था कि चार धाम यात्रा को एक और कुंभ नहीं बनने दिया जाएगा। अदालत की यह टिप्पणी तब आई थी जब महाकुंभ स्नान चल रहा था और उसी बीच बड़ी संख्या में साधुओं के कोरोना पॉजिटिव होने की रिपोर्ट आई थी। उसमें देश भर से लाखों लोग शामिल हुए थे। इसके बाद देश भर में कोरोना संक्रमण लगातार बढ़ता गया और उस दूसरी लहर में हर रोज़ 4 लाख से ज़्यादा मामले आने लगे थे। अस्पतालों में बेड, ऑक्सीजन, दवाइयों की कमी हो गई थी। बड़ी संख्या में लोगों की मौतें हुई थीं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तराखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें