loader

उत्तराखंड: रावत पर हाईकमान ने जताया 'भरोसा', नई कमेटी घोषित

पंजाब के बाद उत्तराखंड कांग्रेस के मसलों को सुलझाने का काम भी कांग्रेस हाईकमान ने कर लिया है। हाईकमान ने गुरूवार रात को उत्तराखंड कांग्रेस की नई कमेटी का एलान तो किया ही, इसके साथ ही चुनाव से जुड़ी कई और कमेटियों को भी मंजूरी दी है। राज्य में 7 महीने बाद विधानसभा के चुनाव होने हैं। बीते एक महीने से नई कमेटी का एलान रुका हुआ था लेकिन अब हाईकमान की मंजूरी के बाद कांग्रेस संगठन बिना उहापोह के जनता के बीच पहुंच सकेगा। 

नई कांग्रेस कमेटी में गढ़वाल से आने वाले पूर्व विधायक गणेश गोदियाल को अध्यक्ष बनाया गया है जबकि अब तक अध्यक्ष रहे प्रीतम सिंह को विधायक दल के नेता की जिम्मेदारी सौंपी गई है। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को चुनाव प्रचार कमेटी की कमान सौंपी गई है। 

चार कार्यकारी अध्यक्ष

राज्य कांग्रेस में गुटबाज़ी इस कदर थी कि महज सवा करोड़ की आबादी वाले इस राज्य में भी पार्टी ने पंजाब की तर्ज पर चार कार्यकारी अध्यक्ष बनाए हैं। इन अध्यक्षों की नियुक्ति में जातीय और क्षेत्रीय समीकरणों का ध्यान रखा गया है। 

ताज़ा ख़बरें

नई कमेटी के एलान को लेकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने पिछले एक महीने से दिल्ली में डेरा डाला हुआ था। विपक्ष की नेता रहीं इंदिरा हृदयेश के निधन के बाद यह पद खाली चल रहा था और हरीश रावत कैंप ने चेहरा घोषित करने को लेकर पूरा जोर लगा दिया था। 

हरीश रावत प्रमुख चेहरा! 

लड़ाई इस बात की थी कि पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत चाहते हैं कि कांग्रेस किसी चेहरे के साथ चुनाव में जाए जबकि पार्टी के निवर्तमान प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह चाहते हैं कि चुनाव सामूहिक नेतृत्व में लड़ा जाना चाहिए। लेकिन चुनाव प्रचार कमेटी के अध्यक्ष के रूप में हरीश रावत को एक तरह से एक बार फिर पार्टी ने प्रमुख चेहरे के रूप में पेश किया है। 

Ganesh Godiyal new Uttarakhand Congress president - Satya Hindi

रावत की पसंद को तरजीह 

कांग्रेस हाईकमान ने एक बार फिर हरीश रावत पर भरोसा तो जताया ही है, उनकी पसंद को भी तरजीह दी है। प्रीतम सिंह प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री भुवन कापड़ी को प्रदेश अध्यक्ष के पद पर देखना चाहते थे और उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष पद छोड़ने के लिए यही शर्त भी रखी थी कि उनके क़रीबी शख़्स को ही संगठन की कमान सौंपी जाएगी। जबकि हरीश रावत ने गणेश गोदियाल का नाम आगे बढ़ाया था। 

ऐसे में हाईकमान ने रावत की पसंद गोदियाल को अध्यक्ष बनाया है जबकि कार्यकारी अध्यक्षों की नियुक्ति में प्रीतम सिंह के कैंप को तरजीह दी गई है। जो चार कार्यकारी अध्यक्ष बनाए गए हैं, उनमें भुवन कापड़ी, रंजीत रावत, प्रोफ़ेसर जीतराम और तिलकराज बेहड़ का नाम शामिल है। 

भुवन कापड़ी, रंजीत रावत और तिलकराज बेहड़ कुमाऊं से आते हैं जबकि प्रोफ़ेसर जीतराम गढ़वाल से। भुवन कापड़ी और रंजीत रावत को प्रीतम सिंह के कैंप का नेता माना जाता है। 

प्रदेश अध्यक्ष और विधायक दल के नेता का चयन गढ़वाल मंडल से करके पार्टी ने इस क्षेत्र को अहमियत दी है और कुमाऊं के लोगों में इससे नाराज़गी न पैदा हो इसलिए हरीश रावत को बेहद अहम चुनाव प्रचार कमेटी का अध्यक्ष बनाया गया है।
इसके अलावा भी चुनाव से संबंधित कई कमेटियों में हरीश रावत के समर्थकों का दबदबा दिखाई देता है। जैसे चुनाव प्रचार कमेटी के उपाध्यक्ष और संयोजक दोनों ही उनके कैंप के हैं। 

रावत के सामने चुनौतियों का अंबार

हालांकि हरीश रावत अपनी बात मनवाने में कामयाब रहे हैं लेकिन उनके लिए 2022 का चुनाव आसान नहीं है। साल 2019 के लोकसभा चुनाव में वह 3 लाख से ज़्यादा वोटों से चुनाव हारे हैं। 2017 के चुनाव में पार्टी ने उनके नेतृत्व में चुनाव लड़ा था तो उसे सिर्फ़ 11 सीटों पर जीत मिली थी और रावत ख़ुद दोनों सीटों से चुनाव हार गए थे। 

लेकिन तब कांग्रेस के इस ख़राब प्रदर्शन के पीछे विधायकों की टूट भी बड़ा कारण थी। सतपाल महाराज, हरक सिंह रावत और यशपाल आर्य जैसे दिग्गज कांग्रेसियों ने बीजेपी का हाथ थाम लिया था। इसके अलावा भी कई विधायक पार्टी छोड़कर चले गए थे। लेकिन चुनाव चूंकि रावत के चेहरे पर लड़ा गया था इसलिए हार का जिम्मेदार उन्हें ही माना गया। 

उत्तराखंड से और ख़बरें

करो या मरो वाला चुनाव 

73 साल के हो चुके हरीश रावत के लिए यह चुनाव करो या मरो वाला है। राज्य में उनके समर्थकों की एक लंबी कतार है, जो उनके फिर से मुख्यमंत्री बनने पर ही अपनी राजनीति को जिंदा रख सकती है। रावत ने बीते एक साल में सक्रियता को बढ़ाया है लेकिन पंजाब कांग्रेस के झगड़ों के कारण इसमें खलल पड़ा है। 

बताया गया है कि उन्होंने हाईकमान से उन्हें पंजाब कांग्रेस के प्रभारी के पद से विदाई देने का अनुरोध किया है, जिससे वे उत्तराखंड में पार्टी के लिए काम कर सकें। दिल्ली कांग्रेस के पूर्व कार्यकारी अध्यक्ष देवेंद्र यादव उत्तराखंड कांग्रेस के प्रभारी हैं और उन्होंने भी राज्य में कांग्रेस की नई टीम के एलान के लिए खासी दिमागी कसरत की है। 

दूसरी ओर, बीजेपी उत्तराखंड को लेकर कई प्रयोग कर चुकी है और चार महीने में ही उसने तीन मुख्यमंत्री दिए हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तराखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें