loader

हॉकी खिलाड़ी वंदना के परिजनों को जातिसूचक गाली देने पर दो गिरफ़्तार

जब पूरा देश वंदना कटारिया के लिए तालियाँ बजा रहा था, लोग वंदना में अपनी-अपनी बेटियों के सपने देख रहे थे तो उनके ही गाँव के कुछ लोग उनके परिवार को जातिगत गालियाँ दे रहे थे। कार्रवाई तो होनी ही थी। पुलिस का कहना है कि दो आरोपी भाइयों को गिरफ़्तार किया गया है। इन पर आरोप है कि उन्होंने अर्जेंटीना से भारतीय महिला हॉकी टीम की हार पर उत्तराखंड में रोशनाबाद गाँव में वंदना के घर के बाहर पटाखे जलाए थे और जब परिजन सामने आए तो जातिगत गालियाँ दी गई थीं।

सिडकुल पुलिस के अनुसार दो सगे भाइयों समेत तीन लोगों के ख़िलाफ़ केस दर्ज किया गया है। वंदना के भाई चंद्रशेखर कटारिया की शिकायत पर सिडकुल थाना पुलिस ने आरोपी रोशनाबाद निवासी सुमित चौहान, अंकुर, विजयपाल के ख़िलाफ़ केस दर्ज कर लिया है। इन पर आरोप तो यह भी है कि इन युवकों ने खुशी मनाने के अंदाज़ में अपने कपड़े उतारकर डांस भी किया था। 'अमर उजाला' की रिपोर्ट के अनुसार पुलिस ने विजयपाल और अंकुर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

ताज़ा ख़बरें

चंद्रशेखर कटारिया ने पुलिस को बताया है कि आरोपी विजयपाल उनसे रंजिश रखता है और इसी के चलते उसने उनके घर के सामने पटाखे फोड़ते हुए जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल किया। उन्होंने आरोपियों पर देशद्रोह की धाराओं में मुक़दमा दर्ज करने की मांग की है।

वंदना कटारिया ओलंपिक में भारत की महिला हॉकी टीम की खिलाड़ी हैं और वह अकेली ऐसी खिलाड़ी हैं, जिन्होंने ओलंपिक में गोल दागने की हैट ट्रिक लगाई है। जब टोक्यो ओलंपिक में सेमीफाइनल मैच में अर्जेंटीना के ख़िलाफ़ भारतीय महिला हॉकी टीम की ओर से वंदना जूझ रही थीं तब उनके परिवार को उनके गाँव में निशाना बनाया जा रहा था। पूरा देश उनपर गर्व कर रहा था, लेकिन वंदना के परिवार को जातिगत अपमान झेलना पड़ रहा था। 

बता दें कि इस मौजूदा भारतीय महिला टीम ने इस बार इतिहास रच दिया है। पहली बार भारतीय महिला हॉकी टीम किसी ओलंपिक के सेमीफाइनल में पहुँची है। इसमें वंदना का भी उतना ही योगदान है जितना कि अन्य खिलाड़ियों का। 

बुधवार को भारत और अर्जेंटीना के बीच हुए मैच में वंदना ने भी बाक़ी खिलाड़ियों की ही तरह देश को जिताने के लिए जी-जान से खेला।

लेकिन भारत को जैसे ही हार मिली तो जातीय अहंकार में डूबे कुछ लोग वंदना के घर के बाहर पहुंच गए और उन्होंने इस हार के लिए महिला हॉकी टीम में शामिल दलित खिलाड़ियों को जिम्मेदार ठहरा दिया। इन लोगों ने वंदना के परिवार को जातिसूचक गालियाँ दीं और वे बेहूदगी की हदें पार कर गए। 

उत्तराखंड से और ख़बरें

वंदना कटारिया उत्तराखंड के हरिद्वार ज़िले के रोशनाबाद गाँव की रहने वाली हैं। टाइम्स ऑफ़ इंडिया (टीओआई) में छपी ख़बर के मुताबिक़, ऊँची जाति से संबंध रखने वाले दो लोगों ने भारतीय महिला हॉकी टीम की हार के बाद वंदना के घर के बाहर पटाखे फोड़े और डांस किया था। वंदना के परिजनों ने टीओआई को बताया कि गालियाँ देने वाले इन लोगों का कहना था कि भारतीय टीम इसलिए हार गयी क्योंकि इसमें कई दलित खिलाड़ी हैं। 

वंदना के भाई शेखर ने कहा कि हार के बाद हम सभी लोग निराश थे लेकिन टीम ने अच्छा खेला और हमें इस पर गर्व है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तराखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें