loader
फ़ोटो साभार: ट्विटर/एनडीआरएफ़

उत्तराखंड में कुदरत का कहर, बादल फटा, 54 लोगों की मौत

मूसलाधार बारिश ने उत्तराखंड में जमकर कहर बरपाया है। नैनीताल ज़िले में बादल फटने की घटना हुई है। बारिश से जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है और राज्य में अब तक 54 लोगों की मौत हो चुकी है। लोगों को बचाने के लिए सेना लगाई गई है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बारिश से प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया है। प्रशासन लोगों की मदद में जुटा हुआ है। 

इस दौरान एनडीआरएफ़ ने 300 से ज़्यादा लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी आज राज्य का दौरा कर हालात का जायजा लेंगे। अकेले कुमाऊं मंडल में 40 लोगों की मौत हुई है। इनमें से नैनीताल जिले में 28, अल्मोड़ा में 6, उधम सिंह नगर और चंपावत में 2-2 लोगों की मौत हुई है। 

मुख्यमंत्री धामी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को राज्य के हालात के बारे में जानकारी दी है। धामी ने कहा है कि कई जगहों पर मकान, पुल आदि टूट गए हैं। सेना के तीन हेलिकॉप्टर बचाव कार्यों में जुटे हैं। उन्होंने कहा है कि मृतकों के परिवारों को 4-4 लाख रुपये की सहायता दी जाएगी और जिनके घर तबाह हुए हैं उनको 1.09 लाख रुपये दिए जाएँगे।

ताज़ा ख़बरें
केरल के बाद उत्तराखंड दूसरा राज्य है, जहां पर बारिश ने रौद्र रूप दिखाया है। राज्य के नैनीताल जिले में लगातार बारिश के कारण सड़कों में पानी भर गया है। नैनीताल की झील का पानी ओवरफ्लो हो गया और यह झील से निकलकर सड़कों, दुकानों, घरों और आसपास के इलाक़ों में घुस गया। 

दुनिया से कटा संपर्क 

नैनीताल जिले के रामगढ़ में बादल फटा है और यहां कई लोगों के मलबे के नीचे दबे होने की आशंका है। घायलों को निकालकर महफूज इलाक़ों में पहुंचाया गया है। कई जगहों पर पहाड़ गिरने की वजह से सड़कें बंद हो गयी हैं और नैनीताल का संपर्क दुनिया से कट गया है। कई जगहों पर रेलवे लाइनों को भी खासा नुकसान पहुंचा है। 

नैनीताल जिले के कई इलाक़ों में पिछले दो दिन से लगातार बारिश हो रही है। नैनीताल की माल रोड और नैना देवी मंदिर के तट पानी में डूब गए हैं। हालांकि मौसम विभाग ने कहा है कि मंगलवार से बारिश की रफ़्तार कुछ कम होगी। 

उत्तराखंड से और ख़बरें

मौसम विभाग ने कहा है कि कुमाऊं इलाके के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है जबकि गढ़वाल में आने वाले दिनों में बारिश नहीं होने का अनुमान है। 

कुमाऊं मंडल के पर्वतीय जिले पिथौरागढ़ में भी मूसलाधार बारिश के कारण कई रास्ते बंद हो गए हैं। अल्मोड़ा-पिथौरागढ़ जिलों की सीमा पर पहाड़ दरक गया और इस वजह से लोग कई घंटों तक रास्ते में ही फंसे रहे। कुमाऊं मंडल के मैदानी इलाक़ों में भी जोरदार बारिश हो रही है। 

गढ़वाल मंडल में भी कुछ लोगों की मौत हुई है। लगातार बारिश के कारण चारधाम यात्रा रोक दी गई है। बदरीनाथ-केदारनाथ हाईवे बाधित हो गया है, जिसे खोलने की कोशिश की जा रही है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तराखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें