loader

जानिए, किसानों के भारत बंद में क्या-क्या सेवाएँ होंगी प्रभावित

नये कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ किसान संघों ने आज भारत बंद का आह्वान किया है। विपक्षी दलों, 10 केंद्रीय ट्रेड यूनियनों के अलावा कई और दूसरे संघों व संगठनों ने इसका समर्थन किया है। दिल्ली में किसानों का जमावड़ा है तो दिल्ली में इसका सबसे ज़्यादा प्रभाव पड़ने की संभावना है। हालाँकि, देश भर में इसका प्रभाव रहेगा। भारतीय किसान यूनियन ने जो घोषणा की है उसके अनुसार जानिए, किस वक़्त में कौन-कौन सी सेवाएँ कहाँ रहेंगी बाधित। 

ख़ास ख़बरें
  • सुबह 11 बजे से 3 तीन बजे तक चक्का जाम रहेगा। 
  • लोग 11 बजे से पहले कार्यालय आसानी से पहुँच सकेंगे।
  • 11 से 3 बजे के बीच भी दूध-सब्जी जैसी सेवाएँ भी बाधित रहेंगी।  
  • एंबुलेंस जैसी आपातकालीन सेवाएँ बाधित नहीं रहेंगी। 
  • शादियों की गाड़ियों को आने-जाने पर रोक नहीं रहेगी। 
  • नेशनल हाइवे और टोल प्लाजा को किसान जाम करेंगे।
  • ट्रांसपोर्ट यूनियन समर्थन में हैं तो ट्रक भी बंद हो सकते हैं।
  • बैंक यूनियन भी समर्थन में है, पर बैंकिंग सेवाएँ जारी रह सकती हैं।
  • दिल्ली-तमिलनाडु में कुछ कैब- टैक्सी यूनियन का समर्थन है। 
  • दोनों शहरों में ऑटो को लोगों को लाने-ले जाने की छूट रहेगी। 
  • मुंबई में कैब्स, टैक्सी और बसें सामान्य रूप से चलेंगी। 
  • दिल्ली और मुंबई में सब्जी और फल का कारोबार प्रभावित रहेगा। 
  • शांतिपूर्ण प्रदर्शन है फिर भी सुरक्षा व्यवस्था कड़ी रहेगी। 
  • दिल्ली में सिंघू, मंगेश, टिकरी और झारोदा की सीमाएँ बंद रहेंगी। 
  • नेशनल हाइवे-44 पर दोनों तरफ़ से वाहन बंद रहेंगे। 

इन दलों ने किया है समर्थन

कांग्रेस, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, शिवसेना, आम आदमी पार्टी, तेलंगाना राष्ट्र समिति, राष्ट्रीय जनता दल, तृणमूल कांग्रेस, द्रविड़ मुनेत्र कड़गम, समाजवादी पार्टी, झारखंड मुक्ति मोर्चा और इंडियन नेशनल लोकदल जैसे दलों ने बंद का समर्थन किया है। 

farmers protest bharat bandh may affect these services  - Satya Hindi

10 केंद्रीय ट्रेड यूनियन भी साथ

10 केंद्रीय ट्रेड यूनियनों ने भारत बंद को अपना समर्थन दिया है। ये ट्रेड यूनियन हैं - इंडियन नेशनल ट्रेड यूनियन कांग्रेस, ऑल इंडिया ट्रेड यूनियन कांग्रेस, हिंद मजदूर सभा, सेंटर ऑफ़ इंडियन ट्रेड यूनियन, ऑल इंडिया यूनाइटेड ट्रेड यूनियन सेंटर, ट्रेड यूनियन को-ऑर्डिनेशन सेंटर, सेल्फ-एम्प्लोयड वुमन एसोसिएशन, ऑल इंडिया सेंट्रल काउंसिल ऑफ ट्रेड यूनियंस, लेबर प्रोग्रेसिव फेडरेशन और यूनाइटेड ट्रेड यूनियन कांग्रेस। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें