loader

जनरल रावत और उनकी पत्नी की अस्थियां गंगा में विसर्जित

तमिलनाडु के कुन्नूर में हुए हेलीकॉप्टर हादसे में मारे गए चीफ़ ऑफ़ डिफेंस स्टाफ़ जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत की अस्थियों को उनकी दोनों बेटियों ने शनिवार को हरिद्वार में गंगा में विसर्जित कर दिया। शुक्रवार को पूरे सैन्य सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया था। बेटियों ने ही उन्हें मुखाग्नि दी थी।

अंतिम संस्कार दिल्ली कैंट के बरार स्क्वायर में स्थित श्मशान घाट पर किया गया था जहां उन्हें 17 तोपों की सलामी दी गई। इससे पहले उनके पार्थिव शरीर को दिल्ली के कामराज मार्ग स्थित आवास पर अंतिम दर्शन के लिए रखा गया था। 

गृह मंत्री अमित शाह, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, कांग्रेस सांसद मल्लिकार्जुन खड़गे, पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी सहित कई नेताओं और तीनों सेनाओं के आला अफ़सरों ने जनरल रावत और उनकी पत्नी को आवास पर पहुंचकर अंतिम श्रद्धांजलि दी। 

कामराज मार्ग से शुरू हुई शवयात्रा के बरार स्क्वायर पहुंचने तक रास्ते में हज़ारों लोग मौजूद रहे। इस दौरान लोगों ने भारत माता की जय और जनरल रावत अमर रहे के नारे लगाए। इस दौरान देश भर में लोग गमगीन रहे। 

शुक्रवार को ही हादसे में मारे गए बिग्रेडियर एलएस लिड्डर का अंतिम संस्कार किया गया। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बरार स्क्वायर पहुंचे और ब्रिगेडियर लिड्डर को अंतिम विदाई दी। 

ताज़ा ख़बरें

सभी के पार्थिव शरीर को गुरूवार शाम को दिल्ली के पालम एयरबेस पर लाया गया। इस हादसे में 13 लोगों की मौत हो गई है और जीवित बचे अकेले शख़्स ग्रुप कैप्टन वरूण सिंह का इलाज चल रहा है। वायु सेना ने हादसे की जांच के आदेश दे दिए हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, एनएसए अजित डोभाल और तीनों सेना के प्रमुखों ने पालम एयरबेस पहुंचकर शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी। 

last rites of Genral Bipin rawat CDS chopper crash incident - Satya Hindi

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरूवार को लोकसभा में हादसे के बारे में संसद में बयान दिया। राजनाथ सिंह ने कहा कि सीडीएस बिपिन रावत वेलिंगटन के डिफ़ेंस कॉलेज में अपने पहले से तय कार्यक्रम में भाग लेने जा रहे थे। उन्होंने कहा, “एयरफ़ोर्स के एमआई 17वी5 हेलीकॉप्टर ने बुधवार को सुबह 11.48 बजे सुलूर एयरबेस से उड़ान भरी। इस विमान को 12.15 मिनट पर वेलिंगटन में लैंड करना था। लेकिन सुलूर एयरबेस के एयर ट्रैफ़िक कंट्रोल ने 12.08 मिनट पर हेलीकॉप्टर से संपर्क खो दिया।” 

रक्षा मंत्री ने कहा कि स्थानीय लोगों ने उलूर के पास जंगल में आग लगी हुई देखी, तो वे भागकर उस जगह पर पहुंचे, वहां उन्होंने सेना के हेलीकॉप्टर को आग की लपटों से घिरे हुए देखा। इसके बाद बचाव दल मौक़े पर पहुंचा और हेलीकॉप्टर के अवशेष में दबे हुए लोगों को निकालकर वेलिंगटन के अस्पताल में ले जाया गया। 

हादसे में बचे अकेले जीवित शख़्स ग्रुप कैप्टन वरूण सिंह लाइफ़ सपोर्ट पर हैं और उनका इलाज चल रहा है। 

देश से और ख़बरें

हेलीकॉप्टर में सीडीएस बिपिन रावत के अलावा उनकी पत्नी मधुलिका रावत, कर्नल हरजिंदर सिंह, बिग्रेडियर एलएस लिड्डर, पीएसओ गुरसेवक सिंह, जितेंद्र कुमार, विवेक कुमार, बी साई तेजा, सतपाल सहित 14 लोग सवार थे।  

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें