loader

दिल्ली नगर निगम चुनाव 2022 0 / 250

BJP
0
AAP
0
CONG
0
OTH
0

कोरोना: पूरे इंग्लैंड में फिर से लॉकडाउन, भारत में सतर्कता

पूरे इंग्लैंड में फिर से लॉकडाउन लगाया जाएगा। प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने सोमवार को इसकी घोषणा की है। बुधवार से यह लागू हो जाएगा और फ़रवरी के मध्य तक रहेगा। 'एएफ़पी' की रिपोर्ट के अनुसार, इस लॉकडाउन में प्राथमिक और माध्यमिक स्कूल भी बंद रहेंगे। ब्रिटेन में इस सख़्त क़दम को तब उठाया गया है जब कोरोना संक्रमण के मामले काफ़ी ज़्यादा आने लगे हैं। ब्रिटेन में नये स्ट्रेन यानी नये क़िस्म का कोरोना संक्रमण पाया गया है। यह 70 फ़ीसदी अधिक तेज़ी से फैलता है। यह वही नये क़िस्म का कोरोना संक्रमण है जो भारत में भी फैलने लगा है। अब तक कम से कम 38 ऐसे मामले भारत में भी आ चुके हैं। इससे यह आशंका होती है कि कहीं भारत में स्थिति न बिगड़ जाए! इसलिए देश में अतिरिक्त सतर्कता बरती जा रही है।

ख़ास ख़बरें

ब्रिटेन में लॉकडाउन का यह फ़ैसला तब लिया गया है जब वहाँ टीकाकरण अभियान जोरशोर से चलाया जा रहा है।

हालाँकि इंग्लैंड में लॉकडाउन पहले से ही था, लेकिन आंशिक रूप से। यानी सभी जगहों पर नहीं था। नये क़िस्म के कोरोना संक्रमण मिलने के बाद कई क्षेत्रों में लॉकडाउन बढ़ाया गया था। इससे पहले कोरोना की जब दूसरी लहर आई थी तब भी आंशिक लॉकडाउन लगाया गया था। फ़िलहाल पूरे देश के दो-तिहाई हिस्से में लॉकडाउन था जो अब पूरे देश में हो जाएगा। 

ये जो नये लॉकडाउन की घोषणा की गई है वह बिल्कुल उस तरह का है जैसा पिछले साल मार्च से जून तक तीन महीने के लिए तब लगाया गया था जब संक्रमण तेज़ी से फैल रहा था। 

लॉकडाउन में स्कूल बंद रहेंगे, जहाँ तक संभव हो घर से ही काम किया जाएगा, घर से बाहर निकलने पर पाबंदी रहेगी और ज़रूरी सामानों की खरीदारी, मेडिकल सप्लाई व कसरत करने की छूट रहेगी।

बोरिस जॉनसन की घोषणा से कुछ समय पहले, इंग्लैंड, स्कॉटलैंड, वेल्स और उत्तरी आयरलैंड के चार मुख्य चिकित्सा अधिकारियों ने कहा है कि देश कोरोना संक्रमण के उच्चतर स्तर पाँच में चला गया। इसका मतलब है कि अगर कोई कार्रवाई नहीं की जाती है तो 21 दिनों के भीतर राज्य में चलने वाली राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा ख़तरे में पड़ जाएगी।

boris johnson announces lockdown in england amid growing coronavirus cases - Satya Hindi

ब्रिटेन में हाल के दिनों में हर रोज़ 50 हज़ार से ज़्यादा नये संक्रमण के मामले आ रहे हैं। सोमवार को देश में क़रीब 58 हज़ार, इससे पहले रविवार को क़रीब 55 हज़ार, शनिवार को 57 हज़ार संक्रमण के मामले आए थे। ब्रिटेन से ज़्यादा अमेरिका में ही हर रोज़ संक्रमण के मामले ज़्यादा आ रहे हैं। एक दिन पहले वहाँ 1 लाख 90 हज़ार संक्रमण के मामले आए। इंग्लैंड में अब तक 27 लाख से ज़्यादा संक्रमण के मामले आ चुके हैं और 75 हज़ार से ज़्यादा मौतें हो चुकी हैं।

वीडियो में देखिए, भारत में कोरोना का नया ख़तरा?
इंग्लैंड टॉप पाँच देशों में है। अमेरिका में सबसे ज़्यादा 2 करोड़ से भी ज़्यादा संक्रमण के मामले आ चुके हैं और 3 लाख 62 हज़ार से ज़्यादा मौतें हो चुकी हैं। दूसरे स्थान पर भारत में 1 करोड़ से ज़्यादा संक्रमण के मामले आ चुके हैं और 1 लाख 49 हज़ार लोगों की मौत हो चुकी है। इस बीच भारत में भी ब्रिटेन के नये क़िस्म के कोरोना संक्रमण के मामले आए हैं। इस डर के बीच कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल की मंजूरी राहत भरी ख़बर हो सकती है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें