loader
रुझान / नतीजे चुनाव 2022

दिल्ली नगर निगम चुनाव 2022 0 / 250

बीजेपी
0
आप
0
कांग्रेस
0
अन्य
0
जान मोहम्मद अली मोहम्मद शेख

मुंबई से गिरफ्तार 'आतंकी' 20 साल से था दाऊद के भाई के संपर्क में

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल द्वारा गिरफ्तार किए गए कथित छह आतंकियों में से मुंबई के धारावी से पकड़े गए आरोपी जान मोहम्मद अली मोहम्मद शेख ने पूछताछ में बड़ा खुलासा किया है। रिपोर्ट के अनुसार जान मोहम्मद का संबंध डी कंपनी के प्रमुख अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम से 20 साल से रहा है। महाराष्ट्र एटीएस के प्रमुख विनीत अग्रवाल ने खुलासा किया है कि जान मोहम्मद इन वर्षों में डी कंपनी के लोगों के संपर्क में रहा है। अग्रवाल का कहना है कि वह दाऊद इब्राहिम के भाई अनीस इब्राहिम के साथ लगातार वाट्सऐप मैसेज और कॉल के ज़रिए संपर्क में था। 

जान मोहम्मद इसी हफ़्ते 13 सितंबर को ट्रेन से मुंबई से दिल्ली के लिए रवाना हुआ था तभी कोटा में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने उसे गिरफ्तार कर लिया। महाराष्ट्र एटीएस की टीम अब दिल्ली रवाना होगी और जान मोहम्मद से डी कंपनी से संबंध के बारे में पूछताछ करेगी।

ताज़ा ख़बरें

महाराष्ट्र एटीएस के मुखिया विनीत अग्रवाल ने खुलासा किया कि जान मोहम्मद ने मुंबई से दिल्ली जाने के लिए 9 सितंबर को प्रोग्राम बनाया था लेकिन टिकट कंफर्म नहीं होने की वजह से वह नहीं जा पाया। इसके बाद उसने 13 सितंबर को गोल्डन टेंपल एक्सप्रेस में तत्काल में टिकट बुक कराया जिसमें उसे वेटिंग लिस्ट में टिकट मिला, लेकिन ट्रेन छूटने से पहले ही उसका टिकट कंफर्म हो गया और वह मुंबई सेंट्रल रेलवे स्टेशन से दिल्ली के लिए रवाना हो गया। विनीत अग्रवाल का कहना है केंद्रीय खुफिया एजेंसियों ने जान मोहम्मद के मुंबई से दिल्ली जाने की जानकारी दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को दी थी। यही कारण रहा कि स्पेशल सेल ने जान मोहम्मद पर ट्रैक लगाते हुए उसे राजस्थान के कोटा से गोल्डन एक्सप्रेस ट्रेन से गिरफ्तार कर लिया।

महाराष्ट्र एटीएस चीफ़ विनीत अग्रवाल ने सत्य हिंदी को बताया कि जान मोहम्मद ने दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल द्वारा की गई पूछताछ में कुबूल किया है कि वह पिछले 20 साल से डी कंपनी के संपर्क में था और वह पिछले काफी समय से दाऊद इब्राहिम के भाई अनीस इब्राहिम से लगातार वाट्सऐप चैट के ज़रिए संपर्क में था। इसके अलावा वह वाट्सऐप कॉलिंग के ज़रिए भी अनीस इब्राहिम से बात किया करता था।

जान मोहम्मद ने पूछताछ में यह भी खुलासा किया है कि वह उनसे मुलाक़ात के लिए दिल्ली जा रहा था जो बाक़ी आतंकी स्पेशल सेल द्वारा पकड़े गए हैं। सभी एक साथ मिलकर दिल्ली, यूपी, राजस्थान और महाराष्ट्र में सिलसिलेवार बम धमाकों की साज़िश को योचना बना रहे थे।

महाराष्ट्र एटीएस से जुड़े एक अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर बताया है कि मुंबई में सिलसिलेवार बम धमाकों का ज़िम्मा जान मोहम्मद को ही सौंपा जाना था। जान मोहम्मद की रामनवमी और दशहरा के मौक़े पर मुंबई के भीड़भाड़ वाले इलाक़ों में धमाके करने की योजना थी।

महाराष्ट्र एटीएस की एक टीम एक ट्रेवल एजेंट असगर से भी पूछताछ कर रही है कि आख़िरकार जान मोहम्मद उसके संपर्क में कैसे आया था। सूत्रों का कहना है कि असगर नाम का यह ट्रैवल एजेंट पिछले काफ़ी समय से जान मोहम्मद के संपर्क में था एवं उसके आने जाने वाले टिकटों को बुक किया करता था। एटीएस अब असगर से इस बात का पता लगाने की कोशिश में जुटी हुई है कि कहीं असगर का भी इन आतंकियों से तो कोई संबंध नहीं था।

महाराष्ट्र से और ख़बरें

महाराष्ट्र एटीएस की एक टीम दिल्ली पुलिस के उन अधिकारियों से भी जानकारी इकट्ठा करेगी जिन्होंने जान मोहम्मद को गिरफ़्तार किया। इससे पहले महाराष्ट्र के गृहमंत्री दिलीप वलसे पाटील ने महाराष्ट्र पुलिस के डीजीपी संजय पांडे, मुंबई पुलिस कमिश्नर हेमंत नगराले और महाराष्ट्र एटीएस के प्रमुख विनीत अग्रवाल के साथ एक उच्च स्तरीय बैठक की एवं आतंकियों द्वारा मुंबई को टारगेट किए जाने संबंधी ख़बर पर चर्चा की। गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटील ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ की गई मीटिंग में नाराज़गी जताते हुए कहा कि जो व्यक्ति 20 साल से डी कंपनी के लोगों के संपर्क में था आखिर उसकी जानकारी मुंबई पुलिस या महाराष्ट्र एटीएस को क्यों नहीं थी।

बता दें कि दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने मंगलवार को छह आतंकियों को गिरफ्तार किया था। ये लोग दशहरा और दीपावली के मौके पर दिल्ली, महाराष्ट्र व यूपी को दहलाने की साज़िश रच रहे थे। 

दिल्ली पुलिस ने आतंकियों से पूछताछ के बाद खुलासा किया था कि गिरफ्तार किए गए छह आतंकियों में से दो आतंकी अभी हाल ही में पाकिस्तान से ट्रेनिंग लेकर लौटे हैं।

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल के पुलिस कमिश्नर नीरज ठाकुर ने बताया था कि केंद्रीय एजेंसियों से इनपुट मिले थे कि ये आतंकी भारत में मौजूद पाकिस्तान समर्थित लोगों के साथ मिलकर यूपी, दिल्ली, राजस्थान और महाराष्ट्र में 1993 बम धमाकों की तर्ज पर सीरियल धमाकों को अंजाम देने की साज़िश रच रहे थे।

ख़ास ख़बरें

महाराष्ट्र एटीएस के अधिकारियों ने मुंबई के धारावी में जान मोहम्मद के घर की तलाशी ली एवं उसकी पत्नी और दोनों बेटियों से भी पूछताछ की है। इसके अलावा एटीएस ने जान मोहम्मद के पड़ोसियों से भी उसके रहन सहन के बारे में पूछताछ की है। जान मोहम्मद की गिरफ्तारी के बाद अब महाराष्ट्र एटीएस ने अंडरवर्ल्ड से जुड़े हुए लोगों की जानकारी निकालनी शुरू कर दी है एवं उन पर शिकंजा कसने की तैयारी की जा रही है।

महाराष्ट्र के गृहमंत्री दिलीप वलसे पाटिल का कहना है कि महाराष्ट्र सरकार ने मुंबई पुलिस और महाराष्ट्र एटीएस को गिरफ्तार किए गए आतंकी के बारे में संपूर्ण जानकारी इकट्ठा करने के आदेश दिए हैं। इसके अलावा मुंबई पुलिस को आने वाले त्योहारों में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त करने का भी आदेश दिया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सोमदत्त शर्मा

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें