loader

कई देशों में रिकॉर्ड कोरोना केस, इटली में युद्ध के वक़्त जितनी मौतें

कोरोना वैक्सीन की आ रही एक के बाद एक उम्मीद वाली ख़बरों के बीच ही कई देशों में कोरोना संक्रमण तेज़ी से फैल रहा है और मौत के भी रिकॉर्ड मामले आ रहे हैं। अमेरिका में बुधवार को क़रीब ढाई लाख संक्रमण के नये मामले आए और 3400 से ज़्यादा मौतें हुईं। दक्षिण कोरिया में कोरोना संक्रमण के मामलों में रिकॉर्ड तेज़ी आई है। जर्मनी में बुधवार को रिकॉर्ड 952 मौतें हुईं। इटली में इतनी मौतें हो रही हैं जितनी युद्ध के दौरान होती हैं और वहाँ दूसरे विश्वयुद्ध के बाद सबसे ज़्यादा मौतें इस साल होने की आशंका है। और अकेले अमेरिका में तो अब तक 3 लाख से ज़्यादा भी मौतें हो चुकी हैं। 

ख़ास ख़बरें

अमेरिका में फाइजर वैक्सीन को लगाने की मंजूरी मिल चुकी है और इसकी शुरुआत हो भी गई है। लेकिन इस बीच डराने वाली ख़बर यह है कि अमेरिका कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का शिकार है। दिसंबर महीने में रिकॉर्ड संक्रमण के मामले आ रहे हैं। दो दिसंबर के बाद से हर रोज़ क़रीब 2 लाख से ज़्यादा संक्रमण के मामले दर्ज किए जा रहे हैं। इससे पहले अमेरिका में सिर्फ़ एक बार 20 नवंबर को 2 लाख 4 हज़ार संक्रमण के मामले आए थे। 

वर्ल्डओ मीटर इंफ़ो के अनुसार, अमेरिका में सबसे ज़्यादा संक्रमण के मामले 11 दिसंबर को क़रीब 2 लाख 47 हज़ार पॉजिटिव केस आए थे। अब 16 दिसंबर को 2 लाख 46 हज़ार संक्रमण के मामले आए हैं। अमेरिका में अब तक 1 करोड़ 73 लाख संक्रमण के शिकार हो चुके हैं और 3 लाख 14 हज़ार से ज़्यादा मौतें हो चुकी हैं।

दक्षिण कोरिया में बुधवार को रिकॉर्ड 1078 नये मामले दर्ज किए जाने के बाद वहाँ की सरकार ने तुरंत ही अस्पताल के बेड बढ़ाए जाने पर ज़ोर दिया है ताकि देश में महामारी के अब तक के सबसे ज़्यादा असर से निपटा जा सके। रिपोर्ट के अनुसार दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल में बुधवार को सिर्फ़ तीन बेड ही खाली थे।

दक्षिण कोरिया वही देश है जिसने बिना लॉकडाउन किए ही कोरोना को अब तक नियंत्रित किया था और दुनिया भर में उसके मॉडल की तारीफ़ की गई। स्थिति से निपटने में इसके मॉडल को ही अधिकतर देशों में अपनाया गया।

इटली में अब स्थिति ऐसी है कि पाबंदियों में और सख़्ती की जा रही है। देश में आँकड़े जारी करने वाली नेशनल स्टेटिस्टिक्स ब्यूरो ने कहा है कि देश में इस साल मौतें दूसरे विश्व युद्ध के बाद सबसे ज़्यादा होंगी। ब्यूरो ने कहा है कि इस साल इटली में कुल मौतें 7 लाख से ज़्यादा हो सकती हैं। इस संख्या में कोरोना के अलावा दूसरे कारणों से हुई मौतें भी शामिल हैं। 

coronavirus positive cases and death ssurge in many countries - Satya Hindi

नेशनल स्टेटिस्टिक्स ब्यूरो के प्रमुख जियान कार्लो ब्लांगियार्डो ने कहा है कि इस साल इटली में मौतों की कुल संख्या 700,000 से अधिक होगी। पिछले साल 2019 में 647,000 मौतें हुई थीं। उन्होंने सरकारी टेलीविजन आरएआई से कहा, 'पिछली बार ऐसा तब हुआ था जब 1944 में दूसरा विश्व युद्ध चरम पर था।'

इटली में मंगलवार को कोरोना से 846 मौतें हुईं और अब तक 65 हज़ार से ज़्यादा मौतें कोरोना के कारण हो चुकी हैं। कोरोना से मौत के मामले में दुनिया में यह पाँचवें स्थान पर है। 

क्रिसमस से पहले बुधवार से ही इटली में दुकानें और स्कूल भी बंद किए गए हैं। नवंबर में ही बार, रेस्त्राँ आदि बंद कर दिए गए थे जब कोरोना की दूसरी लहर आई।

जर्मनी में भी ऐसी ही हालत है। जर्मनी में भी सख़्ती बढ़ाई जा रही है। जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल और 16 राज्यों के गर्वनरों ने रविवार को नयी सख़्ती की घोषणा की। यह ऐसे समय में हो रहा है जब बुधवार को जर्मनी में रिकॉर्ड 952 मौतें हुई हैं। 

वीडियो से समझिए, क्या नीति बन रही है भारत में कोरोना वैक्सीन के लिए?

पूरी दुनिया में हर रोज़ क़रीब 7 लाख कोरोना संक्रमण के मामले आ रहे हैं। एक दिन पहले ही क़रीब 7 लाख 14 हज़ोर संक्रमण के मामले आए हैं। एक दिन पहले दुनिया भर में क़रीब 13 हज़ार लोगों की मौतें हुई हैं। दुनिया भर में कोरोना संक्रमण के मामले अब तक 7 करोड़ 45 लाख से ज़्यादा आ चुके हैं। दुनिया भर में 16 लाख से ज़्यादा मौतें हो चुकी हैं। 

दुनिया भर में सबसे ज़्यादा कोरोना के मामले अमेरिका में आए हैं। वहाँ 1 करोड़ 73 लाख से ज़्यादा संक्रमण के मामले आ चुके हैं। इसके बाद संक्रमण का सबसे ज़्यादा असर भारत में है। भारत में 99 लाख 51 हज़ार से ज़्यादा संक्रमण के मामले आ चुके हैं और 1 लाख 44 हज़ार से ज़्यादा मौतें हो चुकी हैं। ब्राज़ील तीसरे स्थान पर है और वहाँ 70 लाख से ज़्यादा मामले आ चुके हैं और 1 लाख 83 हज़ार से ज़्यादा मौतें हो चुकी हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें